‘सा रे गा मा पा’ की सिल्वर जुबली, आज भी बड़े पैमाने पर हैं इसके प्रशंसक

कई संगीत उस्तादों ने शो के मंच पर दर्ज करायी अपनी आमद

नई दिल्ली 1995 में ‘सा रे गा मा पा’ ने छोटे पर्दे पर एक संगीतमय यात्रा की शुरुआत की। तब से, यह शो बदलते समय के साथ बदलता गया। 25 साल बाद भी यह शो मजबूती से चल रहा है और इसके प्रशंसकों की संख्या बड़े पैमाने पर है। जज और गायक उदित नारायण ने आईएएनएस को बताया, “जहां तक संगीत उद्योग का संबंध है ‘सा रे गा मा पा’ नई प्रतिभाओं को जन्म देने के लिए एक उत्कृष्ट मंच रहा है। इस तरह के प्रतिष्ठित शो की विरासत के साथ जुड़ना वास्तव में मुझे बहुत अच्छा लगता है।”

उन्होंने कहा, “मेरे लिए यह म्यूजि़क फ्रैंचाइजी हमेशा से ही मेरे लिए बहुत खास रही है। इस शो ने मेरे बेटे आदित्य को भी होस्ट के रूप में लॉन्च किया है।”

अमान अली बंगश और अयान अली बंगश, शान, जावेद अली, आदित्य नारायण और अभिनेता पूरब कोहली और मनीष पॉल जैसे संगीत सितारों ने पिछले शो की मेजबानी की है। लता मंगेशकर, पंडित जसराज और जाकिर हुसैन सहित कई संगीत उस्तादों ने शो के मंच पर अपनी आमद दर्ज कराई है।

शान ने कहा, “इस शो की विरासत अद्वितीय है। मैं इस शो के साथ काफी समय से जुड़ा हुआ हूं और मैंने इसे कई बार होस्ट किया है। जब भी मैं इसके मंच पर रहा, मेरे लिए यह बेहद सुंदर अनुभव था। मैं जब भी शो के बारे में सोचता हूं भावुक हो जाता हूं।”

(आईएएनएस)