सौर ऊर्जा से रौशन होगा डीजल लोको शेड, सौर संयंत्र लोकार्पित

535 KWP सोलर प्लांट से 39.98 लाख रूपये बचा रहा रायपुर रेल मंडल

रायपुर। भारतीय रेलवे द्वारा पर्यावरण के संरक्षण के लिए एवं हरित ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए गैर-परंपरागत श्रोतों से ऊर्जा उपलव्ध कराने एवं ऊर्जा संरक्षण की दिशा में बेहतर योगदान के तहत सौर उर्जा को काफी महत्व दिया जा रहा है। इसके लिए रायपुर मंडल में मंडल के प्रशासनिक कार्यालयों, रेस्ट हाउस, में सोलर पैनल स्थापित कर सौर उर्जा के उपयोग को बढ़ावा दिया जा रहा है।

आज 29 अगस्त 2019 को डीजल लोको शेड रायपुर में 40 के. डबल्यू. पी. ( किलो वाट पिक ) ऑन-ग्रिड्र रुफटाप सौर संयंत्र का शुभारंभ DRM कौशल किशोर द्वारा किया गया। इस सोलर प्लांट के द्वारा औसत 160 यूनिट प्रति दिन उत्पादन होगा। इससे वार्षिक बचत 58400 यूनिट एवं रु 2.99 लाख होगी।
रेलवे में पब्लिक पार्टनरशिप प्रोजेक्ट के तहत लगाए जा रहे सभी प्लांट बिजली कंपनी के ग्रिड से जोड़े जा रहे हैं । खपत के बाद बचने वाली बिजली सीधे ग्रिड में दी जा रही है। रेलवे ऊर्जा प्रबंधन कंपनी लिमिटेड (REMCL) आरईएमसीएल के द्वारा पीपीए मोड पर 470 KWP. के अनुबंध पर मेसर्स एज़्योर पावर द्वारा को दिया गया है। जिसका दर 3.75 रुपये प्रति यूनिट है।

                       जबकि अभी रेलवे सीएसपीडीसीएल से औसत 8.87 रुपये प्रति यूनिट की दर से खरीदी कर रहा है। 470 KWP में से इलेक्ट्रिक लोको शेड, भिलाई में 300 KWP, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में 70 KWP, मंडल रेल्वे चिकित्सालय में, 25 KWP एवं अधिकारी क्लब “उल्लास” शिवनाथ रेल विहार में 35 KWP का काम पहले ही पूरा हो चूका है। इसके आलावा 65 KWP सोलर प्लांट रायपुर रेलवे स्टेशन में KWP एवं 25 KWP सोलर प्लांट मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में लगाया गया है। इस प्रकार रायपुर मंडल में सन 2016 से अभी तक 535 KWP सोलर प्लांट लगाया जा चुका है।