हर रेलवे स्टेशन में 2020 तक लगेगा राष्ट्रीय ध्वज़

हर स्टेशनों के बाहर 100 फीट की ऊँचाई पर लहराने लगेगा तिरंगा

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने यात्रियों के बीच राष्ट्रीयता और देशभक्ति की भावना प्रदान करने के लिए अगले साल मार्च तक 41 स्थानों पर राष्ट्रीय ध्वज लगाने का फैसला किया है। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुभान चंदा ने बताया कि “राज्य की राजधानियों, जिला मुख्यालयों और ऐतिहासिक और पर्यटन महत्व वाले स्थानों पर स्थित रेलवे स्टेशनों सहित 41 स्थानों पर 100 फीट ऊंचे झंडे लगाए जाएंगे।”

               उन्होंने कहा कि गुवाहाटी (असम में) और न्यू जलपाईगुड़ी (पश्चिम बंगाल में) रेलवे स्टेशनों पर इस तरह के दो झंडे लगाए जा चुके हैं। अधिकारी ने कहा कि रेलवे बोर्ड के निर्देशों का पालन करते हुए झंडे लगाए जा रहे हैं। रेलवे स्टेशनों को सुंदर बनाने के साथ ही साथ यात्रियों और अन्य रेल उपयोगकर्ताओं के बीच राष्ट्रीयता और देशभक्ति की भावना जगाना इसका मुख्य उद्देश्य है। एनएफआर, भारत के 17 रेलवे जोन में से एक है, जो सिक्किम सहित आठ पूर्वोत्तर राज्यों के अलावा पश्चिम बंगाल के सात जिलों और उत्तर बिहार के पांच जिलों में रेल लाइनों को बढ़ाने और रेल सेवाओं को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है। एनएफआर 2020 तक पूर्वोत्तर राज्यों के तीन और राजधानी शहरों – इंफाल (मणिपुर), आइजोल (मिजोरम) और कोहिमा (नागालैंड) को रेलवे लाइनों का विस्तार करने के लिए काम कर रहा है।

एसईसीआर में लगभग काम पूरा
वहीं रेलवे के बिलासपुर रेल मंडल यानी साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे ने तेज़ चाल में काम करते हुए अपने जोन के लगभग हर बड़े स्टेशन में तिरंगा लगाने का काम लगभग पूरा कर लिया है। रायपुर, बिलासपुर और नागपुर रेलवे स्टेशन के आलावा भी कई जंक्शन में झंडा लगाने का काम किया है। कुछ स्टेशनों में ही एसईसीआर का काम बाकी है।