मप्र में डॉक्टर ने परिवार नियोजन को बनाया अभियान

एक लाख से अधिक लोगों का किया नसबंदी ऑपरेशन

भोपाल मध्यप्रदेश की राजधानी में डॉ. रमेश बड़वे एक ऐसे चिकित्सक हैं, जिन्होंने अपने सेवाकाल में एक लाख 30 हजार से ज्यादा ऑपरेशन किए। इसमें से एक लाख परिवार नियोजन के ऑपरेशन हैं। डॉ. बड़वे ने अपने सेवाकाल में परिवार नियोजन को एक अभियान के तौर पर चलाया। डॉ. बड़वे राज्य के सुदूर आदिवासी अंचल से लेकर राजधानी तक में अपनी सेवाएं देते रहे। लगभग 40 साल के सेवाकाल में उन्होंने परिवार नियोजन को खास अहमियत दी। उनका सेवाकाल का बड़ा हिस्सा बैतूल जिले में बीता।

वे बताते हैं कि बैतूल जिले के मैनी गांव में उन्हें आदिवासियों के बीच कुपोषण और परिवार नियोजन के क्षेत्र में खास काम किया, धीरे-धीरे यह उनके लिए एक अभियान में बदल गया।

डॉ. बड़वे बताते हैं कि महिला हो या पुरुष दोनों में नसबंदी ऑपरेशन को लेकर भ्रांतियां रहती हैं, उन्हें दूर कर दिया जाए तो व्यक्ति ऑपरेशन के लिए तैयार हो जाता है। यह बात सही है कि पुरुषों में ऑपरेशन कराने को लेकर हिचक ज्यादा है।

डॉ. बड़वे के हिस्से में कई उपलब्धियां आईं। यही कारण रहा है कि वर्ष 2004 में परिवार नियोजन के मामले में बैतूल ने राज्य में पहला स्थान पाया। इतना ही नहीं कई सम्मान और पुरस्कार उनके हिस्से में आए।

उन्होंने अपने सेवाकाल में एक लाख 30 हजार ऑपरेशन किए हैं, जिनमें एक लाख से ज्यादा ऑपरेशन परिवार नियोजन के रहे। उनकी पत्नी स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉ. निशा बड़वे भी भोपाल के जेपी हॉस्पीटल में पदस्थ हैं।

संबंधित पोस्ट

मध्य प्रदेश : कंगना रनौत पर सियासी संग्राम

मध्य प्रदेश के सीधी में विधवा के साथ दरिंदगी, कोख में सरिया डाला

मध्यप्रदेश के इंदौर में कोरोना से मरे मरीज की जेब कटी, मोबाइल चोरी

मप्र : सिंधिया के प्रभाव वाले जिलों की कांग्रेस कार्यकारिणी भंग

मप्र : एमसीयू के कुलपति का प्रभार संजय द्विवेदी को

मप्र : ऑक्सीजन थेरेपी से कोरोना मरीजों का सफल उपचार संभव- डॉ. नरोत्तम मिश्रा

LockDown Impact : भोपाल में बंदी के नियमों को तोड़ने पर 2969 मामले दर्ज

शिवराज मंत्रिमंडल का गठन, राजभवन में 5 मंत्रियों ने ली शपथ

अति विश्वास और अति-आत्मविश्वास के बीच कोरोना ने इंदौर में पैर पसारे

Corona Effect : मध्यप्रदेश में पैर पसार रहा कोविड-19

मप्र : शिवराज के हाथों फिर कमान ?

मप्र : विधायकों के इस्तीफे पर ‘एक दिन में’ लिया जाए फैसला : एससी