17 दिसंबर के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

राइट बंधुओं ने ‘द फ्लायर’ नामक विमान की उड़ान से लोगो को अचंभित कर दिया था

रायपुर | आज हम आपको बताने जा रहे हैं देश विदेश में आज के दिन की ख़ास जानकारियां। आज के इतिहास में 17 दिसंबर को हुए महत्वपूर्ण लोगों के जन्म,निधन और कई आश्चर्य घटनाओं की जानकारी आपको होगी।

राइट बंधुओं ने ‘द फ्लायर’ नामक विमान पहली बार उड़ाया था
17 दिसंबर 1903 का वो दिन जब ऑरविल और विलबर,जिन्हे राइट बंधु के नाम से जाना जाता है,उन्होंने उत्तरी कैरोलिना में द राइट फ्लायर नामक विमान से सफलतापूर्वक उदय था। ये विमान 120 फीट की ऊंचाई पर 12 सेकेंड तक उड़ान भरी थी। कहा जाता है कि राइट बंधु बचपन से ही कल्पनाशील थे और उन्होंने हवाई जहाज बनाने का सपना देखना बचपन से ही शुरू कर दिया था। इन दोनों भाइयों को हवाई जहाज का आविष्कारक मन जाता है। राइट बंधु के के पिता ने बचपन में एक खिलौना हेलीकॉप्टर दिया था जिसके बाद दोनों भाइयों को उड़ान भरने का यंत्र बनाने का मन बना लिया। 17 दिसंबर, 1903 को पहली बार पूर्ण नियंत्रित मानव हवाई उड़ान को सफलतापूर्वक अंजाम देने वाले ऑरविल और विलबर राइट साइकिल की संरचना को ध्यान में रखकर अलग अलग कल पुर्जा जोड़कर हवाई जहाज का विकास करते रहे। उन्होंने कई बार हवा में उड़ने वाले ग्लाइडर बनाए और अंत में जाकर हवाई जहाज बनाने का उनका सपना सच हुआ।

राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी को हुई थी फांसी
भारत के एक प्रमुख क्रान्तिकारी राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी को आज ही के दिन 17 दिसंबर 1927 को निर्धारित तिथि से 2 दिन पूर्व ब्रिटिश सरकार ने गोण्डा जेल में फाँसी पर लटका दिया था। युवा क्रान्तिकारी राजेंद्रनाथ लाहिड़ी की प्रसिद्धि काकोरी काण्ड के एक प्रमुख अभियुक्त के रूप में हैं।क्रान्तिकारियों द्वारा चलाये जा रहे स्वतन्त्रता-आन्दोलन को गति देने के लिये धन की तत्काल व्यवस्था को देखते हुए शाहजहाँपुर में दल के सामरिक विभाग के प्रमुख पण्डित राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ के निवास पर हुई बैठक में सभी क्रान्तिकारियों ने एकमत से अंग्रेजी सरकार का खजाना लूटने की योजना को अन्तिम रूप दिया था। इस योजना में लाहिड़ी का अहम किरदार था। योजना के अनुसार कुल 10 नवयुवकों ने मिलकर ट्रेन में जा रहा सरकारी खजाना लूट लिया। ब्रिटिश राज ने दल के सभी प्रमुख क्रान्तिकारियों पर काकोरी काण्ड के नाम से मुकदमा दायर करते हुए सभी पर सम्राट के विरुद्ध सशस्त्र युद्ध छेड़ने तथा खजाना लूटने का न केवल आरोप लगाया बल्कि झूठी गवाहियाँ व मनगढ़न्त प्रमाण पेश कर उसे सही साबित भी कर दिखाया। तमाम अपीलों व दलीलों के बावजूद सरकार टस से मस न हुई और अन्तत: राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी, पण्डित राम प्रसाद बिस्मिल,अशफाक उल्ला खाँ तथा ठाकुर रोशन सिंह को एक साथ फाँसी की सजा सुना दी गयी। लाहिड़ी को अन्य क्रान्तिकारियों से दो दिन पूर्व 17 दिसम्बर को ही फाँसी दे दी गयी।

17 दिसंबर के इतिहास में कई ऐसी महत्वपूर्ण घटनाये दर्ज है जिनमें………

1715 – सिखों के प्रमुख बंदा बहादुर बैरागी ने गुरुदासपुर में मुगलों के सामने आत्मसमर्पण किया।
1777 – फ्रांस ने अमेरिकी स्वतंत्रता को मान्यता दी।
1807 – फ्रांस के तानाशाह नेपोलियन बोनापार्ट ने मीलान का ऐतिहासिक आदेश जारी किया।
1869 – क्रांतिकारी लेखक, इतिहासकार तथा पत्रकार सखाराम गणेश देउसकर का जन्म हुआ।
1903 – राइट बंधुओं ने ‘द फ्लायर’ नामक विमान पहली बार उड़ाया था। 12 सेकेंड की इस उड़ान ने दुनिया में क्रांति ला दी थी।
1905 – भारत के पहले मुस्लिम मुख्य न्यायाधीश, व भारत के प्रथम कार्यवाहक राष्ट्रपति मुहम्मद हिदायतुल्लाह का जन्म हुआ।
1907 – उग्येन वांगचुक भूटान के पहले वंशानुगत राजा बने।
1914 – पोलैंड के लिमानोव में आस्ट्रिया की सेना ने रूसी सेना को पराजित किया।
1914 – तुर्की अधिकारियों ने यहूदियों को तेल अवीव से बाहर खदेड़ दिया गया।
1927 – आस्ट्रेलिया के महान् बल्लेबाज सर डॉन ब्रैडमैन ने अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपने पहले ही मैच में शानदार 118 रनों की पारी खेली।
1927 – भारत के एक प्रमुख क्रान्तिकारी राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी को निर्धारित तिथि से 2 दिन पूर्व ब्रिटिश सरकार ने गोण्डा जेल में फाँसी पर लटका कर मार दिया।
1931 – इस दिन प्रोफेसर प्रशान्त चन्द्र महालनोबिस का सपना साकार हुआ और कोलकाता में ‘भारतीय सांख्यिकी संस्थान’ की स्थापना हुई।
1933 – भारत के दिग्गज क्रिकेटर लाला अमरनाथ ने अपने पदार्पण टेस्ट मैच में ही 118 रनों की बेहतरीन पारी खेली।
1938 – जर्मन रसायनशास्त्री ओटो हान ने यूरेनियम के नाभिकीय विखंडन की खोज की।
1971 – भारत-पाक युद्ध समाप्त।
1972 – भारतीय फिल्म अभिनेता जॉन अब्राहम का जन्म हुआ।
1996 – नेशनल फुटबॉल लीग का शुभारंभ हुआ।
1998 – अमेरिकी और ब्रिटिश बम वर्षकों ने ‘आपरेशन डेजर्ट फाक्स’ के तहत इराक पर भारी बमबारी की।
2005 – भूटान के राजा जिग सिगमे वांचुक को सत्ता से हटाया गया।
2008 – शीला दीक्षित ने दिल्ली की मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

संबंधित पोस्ट

19 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

14 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

13 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

12 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

11 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

09 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

08 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

05 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

04 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

03 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

02 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

01 मई के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी