20 दिसंबर के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

कवि बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने राष्ट्र गीत ‘वंदे मातरम’ की रचना की

रायपुर | आज हम आपको बताने जा रहे हैं देश विदेश में आज के दिन की ख़ास जानकारियां। आज के इतिहास में 20 दिसंबर को हुए महत्वपूर्ण लोगों के जन्म,निधन और कई आश्चर्य घटनाओं की जानकारी आपको होगी।

वन्देमातरम की रचना
बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने वंदे मातरम् की रचना बंगाल के कांतल पाडा गांव में 20 दिसंबर 1876 को किया था। उन्होंने अपनी रचना में भारत को दुर्गा का स्वरूप मानते हुए देशवासियों को उस माँ की संतान बताया. भारत को वो माँ बताया जो अंधकार और पीड़ा से घिरी है। उसके बच्चों से बंकिम आग्रह करते हैं कि वे अपनी माँ की वंदना करें और उसे शोषण से बचाएँ। मूलरूप से ‘वंदे मातरम’ के प्रारंभिक दो पद संस्कृत में थे, जबकि शेष गीत बांग्ला भाषा में लिखा गया था। वंदे मातरम् को मुस्लिम लीग और मुस्लिम समुदाय का एक वर्ग शक की नज़रों से देखने लगा। जब आज़ाद भारत का नया संविधान लिखा जा रहा था तब वंदे मातरम् को न राष्ट्रगान के रूप में अपनाया गया और न ही उसे राष्ट्रगीत का दर्जा मिला। लेकिन संविधान सभा के अध्यक्ष और भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ-राजेंद्र प्रसाद ने 24 जनवरी 1950 को वंदे मातरम् को राष्ट्रगीत का दर्जा दिया।

भारत में मतदान करने की आयु 18 साल हुई
20 दिसंबर, 1988 में संसद ने 62वें संविधान संशोधन के माध्यम से मतदान करने की आयु 21 से घटाकर 18 साल करने संबंधी विधेयक को मंजूरी दी थी। इस फैसले के लिए तत्कालिन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल को काफी अहम माना जाता है। पहले मतदाता के रजिस्ट्रीकरण के लिए आयु 21 साल थी। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1950 को संशोधित करने वाले 1989 के अधिनियम 21 के साथ संविधान के 61वें संशोधन अधिनियम, 1988 के द्वारा मतदाता के पंजीकरण की न्यूनतम आयु को 18 साल कर दिया गया। इसे 28 मार्च, 1989 से लागू किया गया है। 1989 उम हुउ आम चुनाव में बड़ी संख्या में युवा मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

20 दिसंबर के इतिहास में कई ऐसी महत्वपूर्ण घटनाये दर्ज है जिनमें………

1757 – लार्ड क्लाईव को बंगाल का गवर्नर बनाया गया।
1876 – महान कवि बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने राष्ट्र गीत ‘वंदे मातरम’ की रचना की।
1919 – अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा ने आव्रजन पर रोक लगाई।
1924 – जर्मनी में एडोल्फ हिटलर की जेल से रिहाई।
1928 – प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ एवं मध्यप्रदेष के पूर्व मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा का जन्म हुआ।
1935 – फिलिस्तीन के स्वतंत्रता आंदोलन के नेता शेख इज्जुद्दीन कस्साम का निधन हुआ।
1951 – ओमान और ब्रिटेन के बीच समझौते के बाद ओमान स्वतंत्र हुआ।
1955 – भारतीय गोल्फ संघ का गठन।
1956 – एक सन्त एवं समाज सुधारक संत गाडगे बाबा का निधन हुआ।
1959 – भारतीय गेंदबाज जासू पटेल ने कानपुर में आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ 69 रन देकर नौ विकेट लिए।
1963 – जर्मनी में बर्लिन की दीवार को पहली बार पश्चिमी बर्लिनवासियों के लिए खोला गया।
1968 – भारत की आजादी के लिए संघर्षरत क्रांतिकारियों में से एक सोहन सिंह भकना का निधन हुआ।
1971 – जरनल याह्या खाँ द्वारा पाकिस्तान के राष्ट्रपति पद से त्यागपत्र दिया, जुल्फिकार अली भुट्टो राष्ट्रपति बने।
1973 – यूरोपीय देश स्पेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री एडमिरल लुईस करेरो ब्लांको की मैड्रिड में एक कार बम हमले में मौत।
1976 – इजरायल के तत्कालीन प्रधानमंत्री यित्जाक राबिन ने अपने पद से इस्तीफा दिया।
1988 – संसद ने 62वें संविधान संशोधन के माध्यम से मतदान करने की आयु 21 से घटाकर 18 साल करने संबंधी विधेयक को मंजूरी दी।
1993 – भारत और यूरोपीय संघ के बीच ब्रसेल्स में सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए गये।
1993 – बिल क्लिंटन एवं कैनेथ स्टार को ‘स्टार टाइम पत्रिका’ ने ‘मैन आफ दी इयर’ घोषित किया।
1993 – चीन द्वारा इरीडियम आधारित दो संचार उपग्रह छोड़े गये।
1999 – अंतरिक्ष यान ‘डिस्कवरी’ हबल टेलीस्कोप की मरम्मत हेतु रवाना।

संबंधित पोस्ट

17 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओं की जानकारी

16 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

15 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

14 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

13 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

11 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

10 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

09 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

08 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

07 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

06 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

04 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी