13 नवंबर के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओं की जानकारी

आज के दिन एशिया से चेचक का हुआ था सफाया

रायपुर | आज हम आपको बताने जा रहे हैं देश विदेश में आज के दिन की ख़ास जानकारियां। आज के इतिहास में 13 नवम्बर को हुए महत्वपूर्ण लोगों के जन्म,निधन और कई आश्चर्य घटनाओं की जानकारी आपको होगी।

कवि गजानन माधव मुक्तिबोध एक प्रगतिशील कवि
मुक्तिबोध का जन्म 13 नवम्बर, 1917 को मध्यप्रदेश के श्योपुर में हुआ था। उनके पिता माधवराव और माता पार्वती थी। वे माता-पिता की तीसरी संतान थे। इनका पूरा नाम गजानन माधव मुक्तिबोध है। उन्होंने 1953 में साहित्य रचना का कार्य प्रारम्भ किया था। उनकी पहचान हिन्दी साहित्य के प्रमुख कवि, आलोचक, निबंधकार, कहानीकार तथा उपन्यासकार के रूप में हुई। कवी मुक्तिबोध को प्रगतिशील कविता और नयी कविता के बीच का एक सेतु भी माना जाता है। मुक्तिबोध तारसप्तक के पहले कवि थे। मनुष्य की अस्मिता, आत्मसंघर्ष और प्रखर राजनैतिक चेतना से समृद्ध उनकी कविता पहली बार ‘तार सप्तक’ के माध्यम से सामने आई। कविता के साथ-साथ, कविता विषयक चिंतन और आलोचना पद्धति को विकसित और समृद्ध करने में भी मुक्तिबोध का योगदान अन्यतम है। उनके चिंतन परक ग्रंथ हैं- एक साहित्यिक की डायरी, नयी कविता का आत्मसंघर्ष और नये साहित्य का सौंदर्य शास्त्र। भारत का इतिहास और संस्कृति इतिहास लिखी गई उनकी पुस्तक है। काठ का सपना तथा सतह से उठता आदमी उनके कहानी संग्रह हैं तथा विपात्रा उपन्यास है। उन्होंने ‘वसुधा’, ‘नया खून’ आदि पत्रों में संपादन-सहयोग भी किया। मुक्तिबोध का निधन 11 सितंबर1964 को हुआ।

WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा आज के ही दिन की थी
विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा 13 नवंबर 1975 को किया था। आज तक के इतिहास में केवल यही ऐसा संक्रामक रोग है जिसका पूर्ण उन्मूलन हुआ है | आपको बता दें की चेचक एक विषाणु जनित रोग है, इसका प्रसार केवल मनुष्यों में होता है। इसके लिए दो विषाणु उत्तरदायी माने जाते है वायरोला मेजर और वायरोला माइनर। मूल रूप से अंग्रेजी में “पॉक्स” या “लाल प्लेग” के रूप में जाना जाता है। इस रोग के विषाणु त्वचा की लघु रक्त वाहिका, मुंह, गले में असर दिखाते है। मेजर विषाणु ज्यादा मारक होता है, इसकी म्रत्यु दर 30 से 35 % रहती है। इसके चलते ही चेहरे पर दाग, अंधापन जैसी समस्या पैदा होती रही है। माइनर विषाणु से मौत बहुत कम होती है | यह रोग अत्यंत संक्रामक है। जब तब रोग की महामारी फैला करती है। कोई भी जाति और आयु इससे नहीं बची है। टीके के आविष्कार से पूर्व इस रोग से बहुत अधिक मृत्यु होती थी, यह रोग दस हजार इसा पूर्व से मानव जाति को पीड़ित कर रहा है।

13 नवंबर के इतिहास में कई ऐसी महत्वपूर्ण घटनाये दर्ज है जिनमें………
1780- पंजाब के शासक महाराजा रणजीत सिंह का जन्म हुआ।
1873- प्रसिद्ध शिक्षाशास्त्री, समाजसेवक, न्यायाधीश, विधि विशारद तथा संविधानशास्त्रज्ञ मुकुन्द रामाराव जयकर का जन्म हुआ।
1892- कहानीकार, गद्यगीत लेखक राय कृष्णदास का जन्म हुआ।
1917- प्रसिद्ध प्रगतिशील कवि मुक्तिबोध गजानन माधव का जन्म हुआ।
1918- ऑस्ट्रिया गणराज्य बना।
1945- कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन के अध्यक्ष प्रियरंजन दासमुंशी का जन्म हुआ।
1950- तिब्बत ने चीनी आक्रमण के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र में अपील की।
1967- भारतीय अभिनेत्री मीनाक्षी शेषाद्रि का जन्म हुआ।
1968- हिन्दी फिल्म अभिनेत्री जूही चावला का जन्म हुआ।
1968- पाकिस्तान में जुल्फिकार अली भुट्टो को गिरफ्तार किया गया।
1971- अमेरिकी अंतरिक्ष संस्थान नासा भेजा गया यान मरीनर 9 मंगल ग्रह की कक्षा में पहुँचा।
1975- विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की।
1985- पूर्वी कोलंबिया में ज्वालामुखी फटने के कारण करीब 23,000 लोग मारे गए थे।
1997- सुरक्षा परिषद ने इराक पर यात्रा प्रतिबंध लगाया।
1998 -चीन के विरोध के बावजूद दलाई लामा और अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने मुलाकात की।
2004-अमेरिकी राष्ट्रपति बुश ने फिलिस्तीनी राष्ट्र के निर्माण के लिए चार साल का समय निर्धारित किया।
2008 -‘असम गण परिषद’ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल हुई।
2009- झारखण्ड में नक्सलियों ने विधायक रामचन्द्र सिंह सहित सात लोगो का अपरहण कर लिया है।

संबंधित पोस्ट

22 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

21 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

20 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

18 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

17 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओं की जानकारी

16 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

15 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

14 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

13 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

11 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

10 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी

09 जनवरी के इतिहास में आपको मिलेगी विश्व के घटनाओ की जानकारी