बस्तर का सबसे बड़ा बकरा, उमर ढाई साल, वजन एक क्विंटल, कीमत सवा लाख रुपये 

देसी नस्ल से क्रासिंग में जन्मे इस बकरे का नाम टुन्नू, आहार गेहूं,मक्का,ड्राई फूड

धर्मेंद्र महापात्र, बस्तर। ईदउल अजहा को लेकर मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में तैयारियां शुरू हो चुकी है. मुस्लिमों का एक अहम त्योहार बकरीद बस कुछ ही दिनों में आने वाला है। छत्तीसगढ़ में अलग-अलग नस्ल के बकरों का बाजार भी गरम है। लोग कुर्बानी करने के लिए बकरे की खरीदारी कर रहे हैं। बकरीद के लिये  बाजारों में 10 हजार से लेकर एक लाख तक के बकरे उपलब्ध है।

कोंडागांव जिले के जामकोट पारा में रहने वाले यूसुफ अली ने एक लाख 25 हजार का बकरा तैयार कर रखा है। देसी नस्ल से क्रासिंग में जन्मे इस बकरे का नाम टुन्नू है। इसे पत्ते और गेहूं,मक्का,ड्राई फूड खिला कर पाला गया है।

बकरे के व्यवसायी  यूसफ़ अली ने यह बकरा बकराईद के मौके पर कुर्बानी करने के लिए तैयार किया है। यूसुफ अली इस एक क्विंटल से अधिक वजनी बकरे को सवा लाख में बेचना चाहते हैं। ईद उल अजहा (बकरीद) मुसलमानों के मुख्य त्योहारों में से एक है।

इस साल ईद उल अजहा का त्योहार चांद देखे जाने के बाद 31 जुलाई या एक अगस्त को मनाया जाएगा। इस साल की ईद थोड़ी अलग रहेगी कोंडागांव जमा मस्जिद सदर ने सभी मुसलमानों से अपील की है कि कोरोना संक्रमण का खतरा बना हुआ है,जिसकी वजह से ईद पर सभी एहतियाती कदम उठाने होंगे।

कोरोना वायरस की मुश्किल के बीच कुर्बानी शासन के निर्देश व कानून के मुताबिक करें,उन्होंने कहा सभी मुसलमानों को इस बात का ध्यान रखना होगा कि ईद पर शारीरिक दूरी का पूरी तरह से पालन हो और मास्क सैनिटाइजर का भी इस्तेमाल करते रहें।

त्याग और बलिदान का इस पर्व ईद-उल-फितर यानी मीठी ईद के लगभग 2 महीने बाद आता है।