6 जनवरी: हादसे और दुर्योग-संयोग, राउरकेला-भिलाई स्टील प्लांट में

24 जनवरी 1986 को राउरकेला स्टील प्लांट के मैनेजिंग डायरेक्टर वी. सुब्रमणि की दिल्ली में एक होटल में हुए अग्नि हादसे में मौत हो गई थी

डॉ निर्मल कुमार साहू, रायपुर| कभी-कभी हादसे अजीब दुर्योग-संयोग के साथ हमारे सामने आते हैं| ओडिशा के राउरकेला स्टील प्लांट  में आज सुबह हुए हादसे ने छत्तीसगढ़ के भिलाई  स्टील प्लांट में 35 बरस पहले हुए हादसे की याद दिला दी| तब जहरीली गैस से 9 कर्मचारियों की जानें गई थीं|

ओडिशा के राउरकेला स्टील प्लांट  में  बुधवार सुबह प्लांट के कोल केमिकल डिपार्टमेंट में लीक हुए जहरीले धुएं के कारण 4 कर्मचारियों की मौत हो गई गई।

ओडिशा के राउरकेला स्टील प्लांट में जहरीली गैस रिसाव से 4 की मौतयह एक संयोग है कि 35 बरस पहले आज ही के दिन भिलाई के स्टील प्लांट में इसी  गैस से 9 कर्मचारियों की जानें गई | इतना ही नहीं साल भर पहले 3 जनवरी 2020 को भी गैस रिसाव से आधा दर्जन कर्मचारी बीमार हुए थे|

जनवरी के साथ एक दुर्योग यह भी जुड़ा है कि 1986 में राउरकेला स्टील प्लांट के मैनेजिंग डायरेक्टर वी. सुब्रमणि  की मृत्यु 24 जनवरी को दिल्ली के होटल सिद्धार्थ कांटिनेटल में आग लगने से हुई थी, जिसमें सुब्रमणि सहित 37 लोगों की मौत हुई थी।

हादसे पर भिलाई के वरिष्ठ पत्रकार मो जाकिर हुसैन बताते हैं 6 जनवरी 1986 का वह काला दिन शायद ही कोई भिलाई वासी भुला सका होगा|

35 साल पहले 6 जनवरी 1986 आज ही के दिन भिलाई स्टील प्लांट में तब का सबसे भीषण हादसा हुआ था।  कोक ओवन एंड कोल केमिकल विभाग में हुए इस हादसे में 9 कार्मिकों की मौते हुई थी वहीं  44 झुलस गए थे।

इस भयावह हादसे के मृतकों में त्रिलोकनाथ गैस सेफ्टी आपरेटर, जवाहर लाल टंडन हवलदारी एनएमआर, आरके दास प्रबंधक कोक ओवंस, तेजू राजभर फिटर ऊर्जा प्रबंधन विभाग, एबी शंकर राव उपप्रबंधक कोक ओवंस, ओपी ठाकुर फिटर एमिल मिंज फिटर और एसके बनर्जी चार्जमैन सभी ऊर्जा प्रबंधन विभाग से और ओपी जांगिड़ उपप्रबंधक कोक ओवंस शामिल थे।

सभी मौतें 6 जनवरी के बाद  उपचार के दौरान 29 जनवरी तक हुईं।

देखें विडियो –भिलाई में  5 जनवरी का दिन का संयोग अभूतपूर्व रहा| 62 बरस पहले 5 जनवरी 1959 को  भिलाई स्टील प्लांट का पहला फौलाद देश के पहले राष्ट्रपति डॉ.राजेंद्रप्रसाद के हांथो था|