BIG NEWS : बोर्ड के विद्यार्थियों के लिए छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की गाइडलाइन

ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन पर मंडल का फैसला

रायपुर | छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने आज 2020-21 के शैक्षणिक सत्र के लिए महत्वपूर्ण फैसला लिया है। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कक्षा 10वीं और 12वीं के सिलेबस में 30 से 40 फीसदी तक कटौती करने का निर्णय ले लिया है। वही आने वाले समय में कक्षाओं को भी ऑनलाइन संचालित किए जाने पर फैसला लिया गया है। माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा लिए गए निर्णय पर मंडल के सचिव प्रो.वी.के.गोयल ने जानकारी देते हुए बताया कि स्कूल की कक्षाएं इस बार ऑनलाइन ही संचालित होगी। जिसके लिए मंडल के यूट्यूब चैनल पर वीडियो अपलोड 5 सितंबर तक किया जाएगा।

ये लिया गया निर्णय
@ कक्षा 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम का कितना हिस्सा पूर्ण करना है यह जानकारी मंडल की वेबसाइट पर 3 सितंबर तक उपलब्ध हो जाएगी।

@ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने सभी स्कूलों के प्राचार्यो को निर्देश दिया है कि दसवीं और कक्षा बारहवीं के प्रत्येक शिक्षण के लिए अलग-अलग क्लास टीचर नियुक्त कर विद्यार्थियों को व्हाट्सएप ग्रुप और एसएमएस के जरिए उन्हें संबंधित पाठ्यक्रम की जानकारी देते रहें। साथ ही विद्यार्थियों को भेजी गई पाठ्यक्रम में यदि कोई कठिनाई हो तो उसे भी दूर करें।

@ प्रत्येक महीने के पाठ्यक्रम के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा विषय वार असाइनमेंट तैयार किया जाएगा और उसे मंडल की वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। असाइनमेंट पीडीएफ के रूप में सभी स्कूलों को भेजा जाएगा। स्कूलों के प्राचार्य क्लास टीचर के माध्यम से असाइनमेंट सभी विद्यार्थियों को अपने अपने व्हाट्सएप ग्रुप और एसएमएस के माध्यम से भेजेंगे। साथ ही विद्यार्थियों के द्वारा घर पर ही असाइनमेंट उत्तर पुस्तिका में हल करके प्रत्येक महीने के 15 तारीख को स्कूल में जमा करना होगा।

@ जमा किए गए असाइनमेंट के आधार पर ही मूल्यांकन किए जाएंगे। मूल्यांकन के बाद प्राप्त अंकों को मंडल के पोर्टल पर ऑनलाइन प्रविष्टि किया जाएगा। यदि किसी विद्यार्थी को असाइनमेंट में कम अंक प्राप्त होते हैं तो उस विद्यार्थी को विशेष रूप से पढ़ाने की व्यवस्था स्कूल द्वारा की जाएगी।

@ इस तरह छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने असाइनमेंट में प्राप्त अंकों को शैक्षणिक सत्र 2020-21 की मंडल परीक्षा के लिए आंतरिक मूल्यांकन का आधार बनाने की बात कही है। सचिव गोयल के अनुसार यह उपरोक्त सभी नियम इसी माह की 1 तारीख से लागू हो गई है।