साल 2023 में दोरनापाल से मिलेगी पहली डॉक्टर…जाने क्यों

दोरनापाल की एक छात्रा की माया को मिला अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज़

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दोरनापाल इलाक़े की माया कश्यप का डॉक्टर बनने का एक सपना था। जिस सपने को साकार करने के लिए माया ने राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) की परीक्षा दिलाई और अपने इस सपंने की पहली सीधी पर जा ख़ड़ी हुई। धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र की इस बेटी ने एक सरकारी स्कूल में अपनी पढ़ाई की है। सरकारी स्कुल में पढ़ने के बाद अपने स्कार्लरशिप की रक़म से उसने नीट की तैयारियां की। और अब अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस के डिग्री की पढ़ाई पूरी करने के बाद साल 2023 में माया दोरनापाल की पहली डॉक्टर कहलाएंगी।

Maya_Kashyap NEET
मेडिकल कॉलेज में अपनी सीट रिज़र्व करना माया के लिए कोई आसान काम नहीं था। क्योंकि उसके परिवार की पालन पोषण की जिम्मेदारी भी माया के कंधो पर ही थी। कक्षा छटवी में जब माया पढ़ाई कर रही थी, तभी उनके पिता का निधन हो गया था। जिसके बाद परिवार की ज़िम्मेदारी के लिए माया और उनके परिवार ने ज़मीनी संघर्ष किया है। माया ने अपने दूसरे प्रयास में ही नीट जैसी परीक्षा क्लीयर करने में कामयाब रही है।

जॉब :- जिला पंचायत कोंडागांव में निकली भर्तियां, जल्दी करें आवेदन

एक महीने में मिलते थे 500
माया ने ने उन कठिनाइयों को याद करते हुए कहा, “मेरी मां को मेरे अलावा मेरे तीन भाई बहनों का ख्याल रखना पड़ा। वे भी उस समय स्कूल में पढ़ रहे थे। मुझे केवल एक महीने के लिए 500 रुपये मिलते थे। हालांकि पैसो की कमी के कारण मुझे एनईईटी की तैयारी करते समय कई दिक़्क़तों का सामना करना पड़ा। लेकिन मैं अपना लक्ष्य सामने रख कर चल रही थी। इसलिए मैंने लाख तकलीफों के बाद भी अपने लक्ष्य के लिए पहला और बड़ा कदम उठाने में सफल रही। मैंने केवल अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित किया और अपना टारगेट पूरा करने के लिए काम कर रही थी।”

दोरनापाल में देना चाहती है सेवाएं
नीट एग्ज़ाम क्लियर करने के बाद डाक्टरी की पढ़ाई शुरू कर रही माया ने एक बड़ी दिलचस्प बात भी कही। माया ने डॉक्टर बनने के बाद अपने गृह नगर लौटने की इच्छा जताई। जिससे वह उन लोगों को सहायता प्रदान कर सकें जो बुनियादी चिकित्सा सुविधाओं से वंचित हैं। गौरतलब है कि एनईईटी-यूजी चिकित्सा उम्मीदवारों के लिए प्रवेश परीक्षा है, जो सरकारी या निजी चिकित्सा महाविद्यालयों में स्नातक चिकित्सा और दंत पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेना चाहते हैं।