3 जुलाई को होगी जेईई एडवांस परीक्षा, तय किए गए नए मानदंड

आईआईटी में प्रवेश के लिए 75 प्रतिशत की पात्रता वाले मानदंड हटाए जाएंगे

नई दिल्ली | जेईई एडवांस 2021 की परीक्षा 3 जुलाई को कंप्यूटर आधारित टेस्ट मोड में आयोजित की जाएगी। कोरोना महामारी के मद्देनजर इस साल आईआईटी में प्रवेश के लिए 75 प्रतिशत की पात्रता वाले मानदंड हटाए जाएंगे।

आईआईटी में किसी भी कार्यक्रम में प्रवेश के लिए पात्रता मानदंड, बारहवीं कक्षा या (समकक्ष) बोर्ड परीक्षाओं में किया गया प्रदर्शन होगा। उम्मीदवार को जिन विषयों के साथ बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है, उनमें भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित, एक भाषा और उपरोक्त चार के अलावा कोई अन्य विषय शामिल है।

10वीं और 12वीं कक्षा की सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं इस बार मई महीने में शुरू होंगी। बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून तक चलेंगी। वहीं 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं का रिजल्ट 15 जुलाई तक घोषित कर दिया जाएगा। ऐसे में जेईई एडवांस की परीक्षाएं 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के उपरांत ली जाएंगी।

जेईई एडवांस परीक्षा के बारे में अधिक जानकारी देते हुए केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, “जेईई एडवांस 2021 की परीक्षा इस बार आईआईटी खड़गपुर द्वारा आयोजित की जाएगी। मुझे यकीन है कि आपको जानकर खुशी होगी, इस साल आईआईटी में प्रवेश के लिए 75 प्रतिशत वाले पात्रता मानदंड को हटाएंगे।”

जेईई एडवांस 2022 आईआईटी बॉम्बे द्वारा आयोजित किया जाएगा और जेईई एडवांस 2023 आईआईटी गुवाहाटी द्वारा आयोजित किया जाएगा।

निशंक ने कहा, “जेईई 2021 के लिए विशेष पात्रता मानदंड उन उम्मीदवारों के लिए दिया गया है जो जेईई एडवांस 2020 के लिए योग्य और सफलतापूर्वक पंजीकृत हैं, लेकिन परीक्षा में उपस्थित नहीं हो सके। ये छात्र जेईई एडवांस 2021 के लिए उपस्थित होने के लिए पात्र होंगे। हालांकि, ऐसे उम्मीदवारों को 2021 के लिए पंजीकरण करना होगा और शुल्क का भुगतान करना होगा।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “परीक्षा अंग्रेजी, हिंदी (द्विभाषी मोड) में आयोजित की जाएगी। हम आपको अपना भविष्य बनाने के लिए एक और मौका दे रहे हैं।”

इस परीक्षा की प्रभावी तैयारी के लिए, छात्र पिछली बार की तरह इस बार भी नेशनल टेस्ट अभ्यास का उपयोग कर सकते हैं। छात्रों को जेईई परीक्षा के मॉक टेस्ट लेने में सक्षम करने के लिए एनटीए द्वारा इस ऐप का विकास किया गया है। परीक्षा के दौरान छात्रों की सुरक्षा के लिए भी पर्याप्त प्रयास किए जाएंगे। शिक्षा मंत्री के मुताबिक शिक्षा व सुरक्षा दोनों ही महत्वपूर्ण है।

इससे पहले केंद्रीय शिक्षा मंत्री एक साल में चार बार जेईई मेन की परीक्षा करवाने की घोषणा कर चुके हैं। वर्ष 2021 से यह परीक्षाएं फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई में आयोजित की जाएंगी। तय कार्यक्रम के मुताबिक जेईई मेन परीक्षा का पहला सत्र 23 से 26 फरवरी के बीच आयोजित किया जाना है।

–आईएएनएस