राजस्थान के किसान की 3 बेटियों को एक साथ दी गई पीएचडी की उपाधि  

इससे पहले, मध्य प्रदेश की तीनों बहनों को एक साथ पीएचडी की डिग्री से सम्मानित किया गया था

जयपुर | राजस्थान के झुंझुनू जिले में स्थित एक विश्वविद्यालय द्वारा एक किसान के घर पैदा हुईं इन तीन बेटियों को एक साथ पीएचडी की उपाधि दी गई|इसी के साथ एक किसान के घर पैदा हुईं इन तीन बेटियों ने अपने गांव में इतिहास रचा है।

इनमें एक का नाम है सरित तिलोतिया, जिन्होंने भूगोल में डॉक्टरेट की उपाधि हासिल की है। दूसरे का नाम किरण तिलोतिया है, जिन्होंने केमिस्ट्री में अपनी पीएचडी कम्प्लीट की है और तीसरे का नाम अनिता तिलोतिया है, जिन्होंने एजुकेशन में अपना डॉक्टरेट पूरा किया है।

इन सभी को जगदीशप्रसाद झबरामल टिबरेवाला विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया है, जो झुंझुनू के चुरेला गांव में स्थित है।

इससे पहले, मध्य प्रदेश की तीनों बहनों को एक साथ पीएचडी की डिग्री से सम्मानित किया गया था।

Raj: 3 sisters script history, awarded PhD together in village पीएचडी की डिग्री से सम्मानित ये तीन बहनें अब देश के प्रति अपना योगदान देने की चाह रखती हैं और शिक्षा के माध्यम से भारत को एक नई बुलंदी तक पहुंचाना चाहती हैं। ये देश में दूसरी दफा है, जब एक साथ तीनों बहनें डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित की गई हैं। इससे पहले, मध्य प्रदेश की तीनों बहनों को एक साथ पीएचडी की डिग्री से सम्मानित किया गया था।

–आईएएनएस

संबंधित पोस्ट

राजस्थान : सत्तारूढ़ कांग्रेस को एक बड़ा झटका, पंचायत चुनाव में भाजपा का कब्जा

राजस्थान: पाइप बस की खिड़की तोड़ अंदर घुसा, 2 की मौत

राजस्थान: शराब ठेकेदार ने वेतन मांगने पर दलित सेल्समैन को जिंदा जलाया

राजस्थान : 6 दबंगों ने पुजारी को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया, 1 गिरफ्तार

राजस्थान : एक बार फिर संकटमोचक बनकर उभरे अहमद पटेल

राजस्थान के जोेधपुर में एक शरणार्थी पाकिस्तानी परिवार के 11 मृत मिले

राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच फाइटर के रूप में उभरे गहलोत

राजस्थान में कोरोना पर कुर्सी भारी,गहलोत और पायलट दोनो बेचैन

दिल्ली-एनसीआर : डेढ़ महीने में 11वीं बार लगे भूकंप के झटके, बड़े खतरे का संकेत

राजस्थान : चुरू में तापमान 49.6 डिग्री, 29 मई से हीटवेब से राहत की उम्मीद

जेएनयू, यूजीसी नेट, पीएचडी, नीट, टीटीई समेत कई प्रवेश परीक्षाएं स्थगित

पार्टी बदलते ही विधायकी खत्म हो जानी चाहिए : गहलोत