बोर्ड परीक्षा के दौरान संक्रमित छात्रों को मिलेगा सप्लीमेंट्री का मौका

बोर्ड की परीक्षा का काउंट डाउन शुरू

रायपुर | छत्तीसगढ़ में एक बार फिर रिकॉर्ड तोड़ रहे कोरोना वायरस के कारण प्रदेशवासियों में डर का माहौल बना हुआ है। लोगों को बाहर निकालने के लिए भी सोचना पड़ रहा है। इस बीच आने वाले समय में छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की बोर्ड परीक्षाएं निर्धारित हैं,जो 15 अप्रैल से शुरू होंगी। ऐसे में छात्रों के साथ साथ उनके पालकों का डरना भी लाजमी है। वहीं माध्यमिक शिक्षा मंडल के लिए भी ऐसे वक्त में परीक्षाएं लेना किसी चुनौती से कम नहीं है। 

बोर्ड परीक्षाएं चुनौती भरी 

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस का प्रकोप तेजी से फैलने के कारण बोर्ड परीक्षाओं को लेकर संशय की स्थिति बनती दिखाई दे रही है। प्रदेश में 10वीं और 12वीं के छात्रों को छोड़कर बाकी सभी कक्षा के छात्रों को जनरल प्रमोशन दे दिया गया है। बोर्ड की परीक्षाएं 15 अप्रैल से शुरू होने वाली है। जिसकी तैयारी भी स्कूल शिक्षा विभाग ने कर लिया है। जिसमे शिक्षा मंडल को परीक्षाएं भी लेनी है और कोरोना संक्रमण से छात्रों और कर्मियों को भी बचाना है। परीक्षा के बीच होने वाली इन सभी समस्याओं का ख्याल बोर्ड को भी है। लिहाजा बोर्ड ने भी तमाम तैयारियां शुरू कर दी है।  माध्यमिक शिक्षा मंडल के परीक्षा केंद्रों की संख्या में पीछले साल की तुलना में इजाफा किया गया है। 

कोरोना के गाइडलाइन का होगा पालन 

सचिव वी.के.गोयल ने कहा 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं शासन के निर्देशानुसार ऑफलाइन मोड में ली जाएंगी। उन्होंने कहा कि अब परीक्षा में 15 दिन ही शेष बचे हैं। यही कारण है कि शिक्षा विभाग सभी स्कूलों को कोरोना के गाइडलाइन का पूर्ण का पालन करने दिशा निर्देश जारी कर दिया गया है, ताकि परीक्षा केंद्र में पहुंचने वाले छात्र-छात्राओं को किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना ना करना पड़े। परीक्षा के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग को अपनाने के मद्देनजर इस बार स्कूल शिक्षा विभाग ने प्रत्येक स्कूल को ही परीक्षा केंद्र बना दिया है। जिससे बच्चों को दूसरे स्कूलों में ना जाना पड़े। इसके साथ ही सभी स्कूलों को निर्देशित भी किया गया है कि हर कक्षा में 50% विद्यार्थियों की सिटिंग व्यवस्था की जाए, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रहे। सचिव गोयल ने कहा कि परीक्षा केंद्र में कोरोना के बचाव के लिए  मास्क और सैनीटाइजर अति आवश्यक कर दिया गया है। छात्र छात्राओं के साथ शिक्षकों को भी इन सभी गाइडलाइन का पालन करना जरूरी होगा।

संक्रमित छात्रों को मिले सप्लीमेंट्री का अवसर 

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव वीके गोयल ने बताया कि विद्यार्थियों के संक्रमित होने की स्थिति में छात्रों को एक या दो दिन पहले अपने स्वास्थ्य की जानकारी देनी होगी। यदि परीक्षा के समय कोई विद्यार्थी पॉजिटिव पाया जाता है तो उसके लिए भी गाइडलाइन के मुताबिक व्यवस्था की जाएगी। जिसके अंतर्गत पॉजिटिव छात्र की स्थिति को देखते हुए उसकी बैठक व्यवस्था अलग की जाएगी। उन्होंने कहा कि संक्रमित छात्र यदि परीक्षा देने की स्थिति में नहीं है तो ऐसी स्थिति में उनके आवेदन के अनुसार विद्यार्थियों को सप्लीमेंट्री पेपर में बैठाने का विचार किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ बोर्ड परीक्षाओं के काउंट डाउन के बाद स्टूडेंट अपनी तैयारी को धार देने में जुटे हैं, लेकिन कोरोना के बीच सुरक्षित परीक्षा देने को लेकर मन थोड़ा डरा हुआ है। स्टूडेंट्स के साथ-साथ पैरेंट्स की चिंता भी बढ़ गई है, लेकिन परीक्षाएं तो होनी हैं और उसमें शामिल भी होना है।  ऐसे में स्टूडेंट्स को अपने मन को हर प्रकार के भय से दूर रख, तैयारी पर फोकस करना होगा। इसके अलावा छात्रों को सतर्क रहने और सावधानी बरतने में कोई कमी नहीं करनी होगी। 

संबंधित पोस्ट

कोरोना के सारे रिकॉर्ड ध्वस्त, 3.14 लाख नये मामले

छत्तीसगढ़ में कोरोना से मौत का तांडव जारी,संक्रमण में आई कमी

मौत के बढ़ते आंकड़े से लगा डर लेकिन नए कोरोना संक्रमित मरीज हुए कम

अभिनेता सोनू सूद कोरोना से संक्रमित

कोरोना की दूसरी लहर के बीच यूपी में पंचायत चुनाव शुरू

छत्तीसगढ़ में कोरोना की रफ्तार बढ़ी, रायपुर अभी भी हॉटस्पॉट

कोरोना के कहर के बीच इंतजार में है ये लाश,कब मिलेगा उद्धार

कोरोना मौत ने तोड़ा सारा रिकॉर्ड,आज प्रदेश भर में 122 मरीजों की हुई मौत

नवरात्री और रमजान पर भारी पड़ा कोरोना,शासन ने की कड़ाई

देश में दर्ज हुए कोरोना के 1,45,384 नए मामले, 794 मौतें

हवाई यात्रा से छत्तीसगढ़ आने वाले यात्रियों को दिखाना होगा कोरोना निगेटिव रिपोर्ट

CM भूपेश और गृहमंत्री साहू ने भी लगवाया कोरोना का टीका