राज्य सरकार देगी कक्षा 8वीं तक 500 और 12वीं तक 1 हजार प्रति माह की छात्रवृत्ति

‘छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना 2021’ की अधिसूचना जारी

रायपुर | स्कूलों में प्रवेशित छात्रों को कक्षा पहली से 8वीं तक 500 रूपए और कक्षा 9वीं से 12वीं तक एक हजार रूपए प्रति माह की छात्रवृत्ति दी जाएगी। दरअसल,मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दिशा-निर्देशों के अनुरूप कोरोना महामारी से राज्य के मृत व्यक्तियों के बेसहारा बच्चों को निःशुल्क स्कूली शिक्षा के साथ ही छात्रवृत्ति भी प्रदाय करने राज्य शासन द्वारा ‘छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना 2021’ प्रारंभ की जा रही है।

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इस योजना के क्रियान्वयन के लिए अधिसूचना जारी कर दी गई है। जारी अधिसूचना के अनुसार पात्र स्कूल के लिए योजना का क्रियान्वयन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में विगत 18 मई को आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में महतारी दुलार योजना लागू करने के संबंध में निर्णय लिया गया था।

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा महतारी दुलार योजना के क्रियान्वयन के संबंध में पत्र जारी कर सभी जिला कलेक्टरों से कहा गया है कि स्कूल शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग और समाज कल्याण विभाग के समन्वय से ऐसे बच्चों को इस योजना का लाभ दिलाना सुनिश्चित करें। छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना 2021 शैक्षणिक सत्र 2021-22 से लागू की जा रही है।

योजना का लाभ छत्तीसगढ़ के मूल निवासी परिवारों से संबंधित बेसहारा बच्चों को मिलेगा। इस योजना की पात्रता शर्तों में ऐसे बच्चे जिनके परिवार से कमाने वाले माता या पिता या दोनों की मृत्यु कोविड-19 से हो गई हो। इसके अलावा बेसहारा बच्चे स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के लिए पात्रता रखते हों और जिनके घर में कमाने वाले व्यस्क सदस्य न रहने के कारण भरण-पोषण की समस्या हो गई हो उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा।

योजना के तहत पात्र पाए गए बच्चों को प्रदेश के शासकीय शालाओं में निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध कराई जाएगी। ऐसे पात्र बच्चों को राज्य शासन द्वारा संचालित स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल में प्रवेश में प्राथमिकता दी जाएगी तथा उनके शिक्षा का सम्पूर्ण व्यय राज्य शासन द्वारा वहन किया जाएगा। इसके साथ ही छात्रवृत्ति भी दी जाएगी।

ऐसे बच्चे जिनके कमाने वाले माता-पिता की मृत्यु हो गई उन्हें निःशुल्क शिक्षा दी जाएगी। पात्र छात्रों को स्कूली शिक्षा के बाद उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहन दिया जाएगा। प्रतिभावान छात्रों को व्यावसायिक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए प्रशिक्षण, कोचिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

बेसहारा बच्चों के संबंध में किसी भी स्त्रोत से कलेक्टर को जानकारी प्राप्त होने पर, कलेक्टर जिला शिक्षा अधिकारी को उपलब्ध कराएंगे। इसके अलावा छात्र स्वयं या अभिभावक द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी को सीधे आवेदन कर सकेंगे। प्राप्त आवेदन पत्रों का परीक्षण के लिए जिला शिक्षा अधिकारी की अध्यक्षता में समिति गठित होगी, जिसमें स्वास्थ्य विभाग और समाज कल्याण विभाग के एक-एक अधिकारी नामांकित होंगे।

समिति की अनुशंसा पर जिला कलेक्टर द्वारा स्वीकृति दी जाएगी। अभिलेखों के रख-रखाव के लिए पंजी का संधारण जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा किया जाएगा। योजना की समीक्षा जिला कलेक्टर द्वारा समय-समय पर की जाएगी।

संबंधित पोस्ट

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को ‘छत्तीसगढ़ वर्चुअल योग मैराथन’ का होगा आयोजन

गोधन न्याय योजना अंतर्गत गोबर विक्रेताओं को 3.07 करोड़ की राशि अंतरित

नियमित रूप से संचालित हो रही है अम्बेडकर अस्पताल की ओपीडी

छत्तीसगढ़ सरकार ने बदले कई IAS के प्रभार,रायपुर कलेक्टर होंगे सौरभ कुमार

GOM में कांग्रेस शासित राज्य के सदस्यों को शामिल नहीं करना दुर्भाग्यपूर्ण-CM बघेल

छत्तीसगढ़ के समग्र विकास हेतु उपाय सुझाने के लिए टॉस्क फोर्स गठित

कोरोना से दिवंगत मीडिया कर्मी के आश्रितों को मिलेगी सहायता

राजीव गांधी किसान न्याय योजना में लाभ पाने के लिए पंजीयन करना अनिवार्य

खनिज विभाग ने की लौह अयस्क के परिवहन मामले में बड़ी कार्रवाई

शासन-प्रशासन के मजबूत इरादे से राज्य में थम गई कोरोना की त्रासदी

पीएम किसान सम्मान निधि योजना में छत्तीसगढ़ के किसानों को भी मिला लाभ

कोविड से पीडि़त बच्चों को मिलेगा सरकार का आश्रय और संरक्षण