बालों से हो सकता है स्किजोफ्रीनिया का इलाज

मस्तिष्क जनित बीमारी होती है स्किजोफ्रीनिया

मुंबई। क्या आपको बातें भुलने की आदत है ? यदि ऐसा है, तो आप स्किजोफ्रीनिया की बीमारी से पीड़ित हैं। स्किजोफ्रीनिया मस्तिष्क जनित बीमारी होती है। इस बीमारी के कारण मरीज अपना स्मरणशक्ति खोने लगता है। मस्तिष्क से हाईड्रोजेन सेल्फाइड की मात्रा कम होने लगे तो इस बीमारी से पीड़ित होने की आशंका बढ़ जाती है।

अमेरिका के ईएबीओ मलीकुलर मेडिसिन कंपनी की ओर से इसे लेकर शोध किया गया। इस शोध के दौरान उन्हें एक एनजाइम की पहचान करने में सफलता मिली। शोध की रिपोर्ट के मुताबिक यह एनजाइम मस्तिष्क में हाईड्रोजेन सेल्फाइड को अधिक मात्रा में खत्म करने का काम करता है। इस एनजाइम का पता चिकित्सकों ने बालों की जांच कर के पता लगाया। इससे हाईड्रोजेन सेल्फाइड का अधिक मात्रा में खत्म होने को रोका जा सकेगा। साथ ही स्किजोफ्रीनिया से मृत्यु दर को भी काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है।