लॉकडाउन में 49.3 प्रतिशत पुरुषों ने की अपने बच्चों की देखभाल

सर्वे से खुलासा, 25-45 वर्ष आयु वर्ग के लोगों ने संभाली जिम्मेदारी

नई दिल्ली कोरोनोवायरस का फैलाव रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के दौरान 50.8 प्रतिशत महिलाओं के मुकाबले, लगभग 56.2 प्रतिशत पुरुषों ने बच्चों की देखभाल की जिम्मेदारी निभाई। नवीनतम आईएएनएस-सी वोटर इकोनॉमी बैटरी सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है।

सर्वे के अनुसार, 49.3 प्रतिशत पुरुषों ने लॉकडाउन के बीच बच्चों की देखभाल की जिम्मेदारी निभाने के बारे में पूछे जाने पर ‘हां’ कहा, जबकि 22.9 प्रतिशत पुरुषों ने कहा कि वे पहले से ही ऐसा कर रहे हैं। कुल 16 प्रतिशत पुरुषों ने ‘नहीं’ कहा, जबकि 9.5 प्रतिशत ने कहा कि यह प्रश्न उन पर लागू नहीं था, जिसके कारण विशुद्ध रूप से 56.2 प्रतिशत पुरुषों द्वारा बच्चों की देखभाल किए जाने की बात सामने आई है।

जब महिलाओं के बीच यही प्रश्न रखा गया, तो 41.7 प्रतिशत ने ‘हां’ कहा, जबकि 20.2 प्रतिशत ने ‘नहीं’ कहा। कुल 29.3 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि वे पहले से ही ऐसा कर रही हैं, जबकि 8.5 प्रतिशत का कहना है कि यह उनके लिए लागू नहीं था।

सर्वेक्षण में पाया गया कि 25-45 वर्ष आयु वर्ग के 53.3 प्रतिशत लोगों ने लॉकडाउन के दौरान बच्चों की देखभाल के कर्तव्य का पालन किया है।

लगभग 50 प्रतिशत लोग, जिन्होंने बाल-देखभाल कर्तव्यों का पालन किया है, वे कम पढ़े-लिखे लोगों के समूह से संबंधित हैं, जबकि 33.6 प्रतिशत उच्च शिक्षा समूह से संबंधित हैं।

सर्वेक्षण में यह भी पाया गया है कि बाल-देखभाल कर्तव्यों में शामिल 49.3 प्रतिशत लोग मध्यम आय वर्ग से हैं और 46.4 प्रतिशत निम्न आय वर्ग समूह से हैं।

सामाजिक समूहों के संदर्भ में, 58.5 प्रतिशत मुसलमानों ने बाल-देखभाल कर्तव्यों का पालन किया है, समूह में सबसे अधिक, 53.9 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति, 48.3 प्रतिशत सिख और 32.7 प्रतिशत ईसाई हैं।

क्षेत्र के अनुसार, पूर्व और पश्चिम में, 50 प्रतिशत लोगों ने बाल-देखभाल कर्तव्यों का पालन किया है, इसके बाद उत्तर में ऐसे लोग 48 प्रतिशत और दक्षिण में 32.4 प्रतिशत हैं।

सबसे अधिक शहरी क्षेत्र में रहने वाले 47.5 प्रतिशत लोगों ने संकटकाल में बच्चों की देखभाल करने का कर्तव्य निभाया।

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

लॉकडाउन के बाद शूटिंग करने के लिए तैयार है बॉलीवुड

बिहार : राजद शीर्ष नेता सहित 92 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

लॉकडाउन से पस्त पान विक्रेता संघ कलेक्टर से मिला, मांगी इजाजत

कोरोना महामारी से प्रभावित रणवीर सिंह ने बताए अपने अनुभव

बड़ी तादाद में प्रवासी मजदूरों की वापसी बिहार सरकार के लिए चुनौती

लॉकडाउन में भटक रहे मासूम को ओडिशा कैडर आईपीएस का सहारा

संकट की यह घड़ी हमें एकजुट रहना सिखा रही कोरोना : आशा भोंसले

लॉकडाउन से कोई नतीजा नहीं, बल्कि जनता को हुआ भारी नुकसान : राहुल गांधी

उप्र : बिहार से दुल्हन लेकर 60 दिनों बाद घर लौटी ‘बारात’, सभी क्वारंटाइन

मप्र : सड़क हादसे में प्रवासी मजदूर के दो बच्चों समेत 4 की मौत

भोपाल बिलासपुर श्रमिक स्पेशल ट्रेन में बालिका शिशु ने जन्म लिया

महाराष्ट्र : महामारी के और फैलने के खतरे के मद्देनजर लॉकडाउन 31 मई तक बढ़ा