भूपेश कैबिनेट : आरक्षण, सूखा, खरीफ फसल हो सकता है एजेंडा

भूपेश कैबिनेट में अनुसूचित जाति आरक्षण पर लग सकती है मुहर

रायपुर। भूपेश कैबिनेट की एक बैठक आज शाम मुख्यमंत्री निवास पर आहूत की गई है। इस बैठक में प्रदेश में खरीफ की फसल की स्थिति और मानसून के रुख पर विस्तृत चर्चा की जाएगी। इसके साथ ही प्रदेश में कुछ स्थानों में बाढ़ और अल्प वर्षा के हालात पर भी विस्तृत चर्चा होगी। इसके आलावा अनुसूचित जाति के जनसँख्या के आधार पर आरक्षण के फैसले को भी भूपेश कैबिनेट में मुहर लगाई जा सकती है। इन फैसलों के साथ आज की कैबिनेट में 15 अगस्त को भूपेश सरकार की तरफ से किए जाने वाले ऐलान पर भी विस्तृत चर्चा की जाएगी।

सीएम भूपेश                             सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश में बारिश के बाद तकरीबन 12 जिले 55 तहसील में अब भी औसत से कम बारिश हुई है। जहां फसलों की स्थिति बेहद चिंतनीय है। वहीं प्रदेश के डैम और बैराज में स्टोर हुए पानी की स्थिति भी चिंताजनक है, लिहाजा इन मसलों पर सरकार आज कोई बड़ा फैसला ले सकती है। इसके अलावा धान की फसल में भी पर्याप्त पानी नहीं होने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीर साफ झलक रही है।

भूपेश कैबिनेट                          जिससे राहत देने के लिए भूपेश सरकार कोई बड़ा क़दम आज की कैबिनेट में उठा सकती है। इसके लिए राजस्व विभाग और कृषि के अधिकारियों ने प्रदेश की वर्तमान स्थिति पर एक सर्वे रिपोर्ट तैयार की है। जिसमें प्रदेश के विभिन्न जिलों से सूखे और बस्तर इलाके में बाढ़ की स्थिति से बने हालातों का एक खाका तैयार किया गया है। इस रिपोर्ट के आधार पर ही भूपेश कैबिनेट में किसानों को राहत देने का कोई फैसला लिया जा सकता है। इसके अलावा विभिन्न विभागों के कई मुद्दों पर भी चर्चा होनी है।

15 को कर सकते है बड़ा ऐलान
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज की कैबिनेट में 15 अगस्त को सरकार के द्वारा किए जाने वाले ऐलानों पर भी अपने मंत्रिमंडल से चर्चा कर सकते है। इसमें कयास लगाए जा रहे है कि भूपेश सरकार नए जिलों का भी ऐलान संभवतः 15 अगस्त को पुलिस परेड ग्राउंड से कर सकते है।