क्रेता विक्रेता सम्मेलन : छत्तीसगढ़ के धान को मिलेगा अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार- CM

सम्मलेन का शुभारंम्भ कर सीएम भूपेश ने स्टॉलों का किया निरीक्षण

रायपुर। छत्तीसगढ़ के कृषि उपज वनोपज हैंडलूम कोसा इत्यादि उत्पादों को अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर प्रोत्साहन एवं विक्रय को बढ़ावा देने के लिए 20 से 22 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय क्रेता विक्रेता का सम्मेलन का आयोजन किया गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अंतर्राष्ट्रीय क्रेता विक्रेता सम्मेलन का शुभारंभ किया। इस अवसर पर कृषि मंत्री रविंद्र चौबे के साथ विधायक महापौर और अन्य जनप्रतिनिधि शामिल हुए।

छत्तीसगढ़ में उपलब्ध विशेष गुणों से भरपूर फसलों अनाज दलहन तिलहन वनोपज साग सब्जी तथा हैंडलूम कोसा सिल्क इत्यादि उत्पादों का राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापार को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ राज्य कृषि उपज मंडी द्वारा यह अंतरराष्ट्रीय आयोजन किया गया है। सम्मेलन में आमंत्रित क्रेता एवं विक्रेता के बीच चर्चा और अनुबंध (MOU) भी हुए। इस सम्मेलन में 16 देशों से 60 क्रेता और देश के अन्य प्रदेशों से लगभग 60 क्रेता और प्रदेश से लगभग 120 विक्रेताओं ने हिस्सा लिया है।

              शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ धान का कटोरा है। अब छत्तीसगढ़ के प्रचलित धान को अंतरराष्ट्रीय मार्केट में एक अलग स्थान मिलेगा,जिसके लिए यह सम्मेलन कारगर साबित होगा। उन्होंने कहा कि इस सम्मलेन के ज़रिए राज्य के विभिन्न उत्पादों को ग्लोबल मार्केट मिलने की बड़ी उम्मीद है।

इन उत्पादों को मिलेगा ग्लोबल मार्केट
छत्तीसगढ़ में उपलब्ध विशेष गुणों से भरपूर फसलों अनाज, दलहन, तिलहन, वनोपज, साग-सब्जी तथा हैण्डलूूम, कोसा, सिल्क इत्यादि उत्पादों का राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यापार को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ राज्य कृषि उपज मंडी द्वारा यह आयोजन किया गया है। सम्मेलन में आमंत्रित क्रेता एवं विक्रेता के बीच चर्चा और एमओयू भी किए जा रहे है। ये सम्मेलन में आम जनता के लिए अवलोकन तथा क्रय-विक्रय के लिए भी खुला रहेगा।