सीएम भूपेश की माता का निधन कल 11 बजे निकलेगी अंतिम यात्रा

सीएम भूपेश की माँ का हार्ट अटैक के बाद चल रहा था ईलाज़

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता बिंदेश्वरी बघेल का निधन हो गया है। मुख्यमंत्री की माता बिंदेश्वरी बीतें 15 दिनों से राजधानी के एक निजी अस्पताल में भर्ती थी। जहां उन्हें हार्ट अटैक के बाद ईलाज के लिए भर्ती कराया गया था। हार्ट के साथ ही उनके किडनी में इंफेक्शन डाक्टरों ने डायग्नोस किया था। जिसका ईलाज लगातार किया जा रहा था। इस दौरान उनका डायलिसिस भी किया गया था।


हालांकि डॉक्टरों के द्वारा लगातार उपचार के दौरान उनके स्वास्थ्य में सुधार की बात भी कहीं गई थी मगर ये सुधर बेहद धीमी गति से हो रहा था। रविवार की सुबह से ही उनकी तबीयत बिगड़ती चली गई और शाम को उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली। मिली जानकारी के मुताबिक जिस वक्त बिंदेश्वरी बघेल ने अंतिम सांस ली, उस वक्त सुबे के मुखिया और उनके बेटे भूपेश बघेल उनके साथ ही थे। सीएम भूपेश बघेल की माता बिंदेश्वरी के निधन की खबर जैसे ही फैली, वैसे ही कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता मंत्री, विधायक और कार्यकर्ताओं का अस्पताल में पहुंचे।

कल भिलाई में होगा अंतिम संस्कार
मिली जानकारी के मुताबिक बिंदेश्वरी बघेल का अंतिम संस्कार कल सुबह 11:00 बजे किया जाएगा। इससे पहले मुख्यमंत्री की माता का पार्थिव शरीर भिलाई स्थित उनके निवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। इसके बाद कल सुबह पदुमनगर स्थित सीएम भूपेश बघेल के निवासी मुक्तिधाम के लिए बिंदेश्वरी बघेल की शव यात्रा निकलेगी।

संबंधित पोस्ट

नक्सल प्रभावित इलाकों में आदिवासियों पर दर्ज़ 215 प्रकरण हुए वापस

सीएम हाउस में हुई भूपेश कैबिनेट की बैठक

लोकवाणी : स्वाभिमान, अस्मिता और नई ऊर्जा से प्रारंभ हुआ आगे बढ़ने का नया दौर

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बॉयो-एथेनॉल के लिए नीति आयोग को लिखा पत्र

छत्तीसगढ़ में आज है अन्न दान का महापर्व छेरछेरा

छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण का गठन

भक्त राजिम माता जयंती पर सीएम की सौगात, मेला स्थल में बनेगा राजिम माता भवन

सीएम भूपेश के निर्देश – वेंटिलेटर, आई.सी.यू. और ऑपरेशन थेएटर रखें अपडेट

नाचा नाटक खेल और चित्रकला से सजेगा “युवा महोत्सव 2020”

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए नाम निर्देशन का सिलसिला जारी

छत्तीसगढ़ विधानसभा के सेंट्रल हाल में महान विभूतियों के तैलचित्र का अनावरण

जंगल अफसरों को CM भूपेश की दो टूक, आदिवासी है वनों के मालिक