संस्कृत में गीतों के साथ हुआ प्रशिक्षण शिविर का समापन

सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ संस्कृत प्रशिक्षण शिविर का समापन

रायपुर। शदाणी दरबार रायपुर में आयोजित 8 दिवसीय आवासीय संस्कृत प्रशिक्षण शिविर का समापन संस्कृत गीत, वंदना, संस्कृत में भाषण और संस्कृत में ही विविध प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ संपन्न हुवा। समापन समारोह में प्रान्त प्रचारक प्रेमशंकर सिदार द्वारा अध्यक्षता एवं शदाणी दरबार के उत्तराधिकारी उदय लाल शदाणी अधिवक्ता उच्च न्यायालय के मुख्य आतिथ्य में तथा संस्कृतभारती के उपाध्यक्ष डॉ. राजकुमार तिवारी द्वारा संपन्न हुआ।

आवासीय संस्कृत प्रशिक्षण शिविर                       अतिथियों ने बताया कि संस्कृतभारती द्वारा इस प्रकार लगाया जा रहा प्रशिक्षण शिविर बहुत ही लाभकारी है। बहुत ही कम समय मे इस संगठन द्वारा संस्कृत में बोलचाल करना सिखाया जाता है। इस प्रशिक्षण शिविर में आये हुवे विद्यार्थियों ने संस्कृत में गीत गाये और संस्कृत में अनुभव भाषण व संस्कृत में नाटक प्रस्तुत किये जिसे सुनकर अतिथियों ने इस कार्यक्रम की भूरी भूरी प्रशंसा किये। प्रान्त सहमंत्री डॉ. ददुभाई त्रिपाठी ने बताया कि संस्कृतभारती एक अखिलभारतीय संगठन है जो विगत ४० वर्षों से संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार में कार्यरत है, जो कि आज तक लाखों लोगों को प्रशिक्षण दे चुकी है। केवल भारत देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अधिकतर लोग संस्कृतभारती द्वारा प्रशिक्षण ले चुके हैं।

आवासीय संस्कृत प्रशिक्षण शिविर                                                        रायपुर संभाग प्रचार प्रमुख पंडित चंद्रभूषण शुक्ला ने बताया कि संस्कृतभारती की संस्था लगभग हर राज्य में है जो कि हर वर्ष राज्य स्तरीय संस्कृत प्रशिक्षण शिविर लगाती है। संस्था का मुख्य उद्देश्य संस्कृत भाषा का पुनरूत्थान, संस्कृत भाषा का प्रचार प्रसार, संस्कृत के माध्यम से देश सेवा एवं संस्कृत को बोलचाल की भाषा बनाना है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में भी संस्कृतभारती द्वारा अब तक हजारों लोगों को संस्कृत संभाषण का प्रशिक्षण दे चुकी है।