नहीं मिला रायपुर के कोचिंग सेंटरों में फायर फाइटिंग सिस्टम

17 कोचिंग सेंटर और 1 स्कूल में छापा, 1 में मिली फायर सेफ्टी

रायपुर। रायपुर नगर निगम के महापौर प्रमोद दुबे और निगमायुक्त शिव अनन्त तायल के निर्देश पर आज लगातार दूसरे दिन भी कोचिंग सेंटरों की जांच की गई। 17 कोचिंग सेंटरों में से सिर्फ एक में ही फायर सेफ्टी उपकरण मिला। वहीं ग्राउंड फ्लोर मिलाकर चार मंजिला एक स्कूल की सीढ़ियां संकरी पायी गई। सभी को नोटिस जारी कर दिया गया है। जांच की कार्रवाई जोन क्रमांक 1 और 2 में की गई।

कोचिंग सेंटर                                  जोन क्रमांक 1 के कार्यपालन अभियंता लोकेश चन्द्रवँशी ने बताया कि जोन के अलग अलग मोहल्लों में चल रहे 12 कोचिंग सेंटरों में फायर सेफ्टी उपकरणों तथा अन्य चीजों की जांच की गई। उनमें से दिशा क्लासेस, कैरियर एजुकेशन, विद्यापन कोचिंग, एएनसी एमआईटी, टॉप टेन ट्यूरोटोरियल, मैक, संजय क्लासेस, सुपर ब्रेन क्लासेस, प्रेमस कोचिंग, एवीएस एकाडमी, पीआरएस इंसिट्यूट, राज कोचिंग नाम के कोचिंग सेंटरों की जांच में किसी भी कोचिंग सेंटर में फायर सेफ्टी उपकरण नहीं पाए गए।

कोचिंग सेंटर                     सभी को उपकरण लगाने के लिए नोटिस जारी कर दिया गया। खमतराई स्थित रायपुर कान्वेट स्कूल की भी जांच की गई। ग्राउंड फ्लोर समेत ऊपर 4 मंजिल बने इसके भवन में एक हजार छात्र अध्ययन रहत हैं। यहां की सीढ़ियां अपेक्षाकृत संकरी पायी गई। जिस पर वैकल्पिक व्यस्था करने के संचालक को निर्देश दिए गए हैं। साथ ही प्रत्येक फ्लोर पर कम से कम चार चार फायर सेफ्टी उपकरण लगाने के लिए कहा गया है।

जोन 2 ने भी ज़ारी की नोटिस
इधर जोन क्रमांक 2 अमले द्वारा महेंद्रा कोचिंग, डॉ भाटिया मेडिकल कोचिंग, टेली ब्रेन्स, मैट्स यूनिवर्सिटी और फ्रेंकलिन इंस्टीट्यूट में जांच की कार्रवाई की गई। जोन के कार्यपालन अभियंता रघुमनी प्रधान ने बताया कि सिंह महेंद्रा कोचिंग में ही फायर सेफ्टी उपकरण लगा पाया गया। बाकियों के खिलाफ नोटिस जारी कर दी गई है।