फिर दिखे ” हिममानव के निशान ” वैज्ञानिकों ने नकारा

इंडियन आर्मी ने ट्वीटर पर शेयर की तस्वीर

नई दिल्ली। देश नहीं बल्कि पूरी दुनिया में हिममानव यानी यदि एक रहस्य बना हुआ है, रहस्य इसके अस्तित्व और होने के प्रमाणों का है। इसके साथ हिममानव के कई किस्से और दावे भी समय-समय पर देश दुनिया में किए गए, लेकिन आज इंडियन आर्मी के ऑफिशल ट्वीटर अकाउंट से कुछ तस्वीरों के साथ यह दावा किया गया है कि इसमें जो पैर के निशान दिखाई दे रहे हैं, वह कोई आम इंसान के नहीं बल्कि यह हिममानव याने ” येति ” के पैरों के निशान है।

हिममानव                        जो निशान इंडियन आर्मी ने शेयर किए है। उस की साइज़ 32✖️15 इंच का साइज आता है। यह साइज कोई कॉमन साइज नहीं है, बल्कि इस साइज को लेकर यह दावा किया गया है कि यह निशान हिममानव के ही है। भारतीय सेना के ऑफिशल ट्वीटर पर इन तस्वीरों के साथ सेना ने इस बात की जानकारी दी है। भारतीय सेना को नेपाल के मकालु बेस कैंप के पास यह पैरों के निशान नजर आए, जिसमें एक छोर से दूसरी ओर जाते हुए यह निशान स्पष्ट नजर आ रहे हैं। इधर इन निशानों पर कुछ वैज्ञानिकों का यह तर्क है कि यह कोई हिममानव नहीं बल्कि पहाड़ों में पाए जाने वाले भालू ओं की एक विशेष नस्ल है। वहीं पहाड़ी इलाकों में रहने वाले कुछ लोगों ने यह तर्क दिए हैं कि हिममानव वास्तव में भारी-भरकम जीव है। जिसकी शक्ल बंदर की जैसी होती है, लेकिन वे दो पैरों में चलने वाले जीव हैं।

लद्दाख में देखा गया हिममानव
हिममानव को लेकर दुनिया भर में अलग अलग दावे किए जाते रहे है। भारत में कुछ साल पहले लद्दाख के पास कुछ बौद्ध भिक्षुओं ने भी पहले यह दावा किया था उन्होंने हिममानव देखा है। जिसके बाद इस मसले पर काफी खौजबीन हुई और वैज्ञानिकों ने भी अपनी तरफ से जांच पड़ता