“मोहन से महात्मा” कठपुतली नाटक से जाने बापू का जीवन

अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन ने छत्तीसगढ़ में 60 स्थानों पर किए है कार्यक्रम

रायपुर। महात्मा गाँधी के 150 वीं वर्षगांठ के अवसर पर देश और दुनिया में गाँधी जी और कस्तूरबा जी की 150 वीं वर्ष गाँठ मनाई जा रही है। इस अवसर पर सरकार से लेकर अलग अलग संस्थाएं बापू और बा की वर्ष गाँठ अपने अपने तरीके से मना रहे है। धमतरी में जहाँ अज़ीम प्रेमजी स्कूल, शासकीय प्राथमिक शाला, माध्यमिक शाला और उच्च माध्यमिक शाला, गोकुलपुर और शासकीय माध्यमिक बालक विद्यालय, बठेना में कठपुतली नाटक के प्रदर्शन के बाद आज आदिवासी कन्या आश्रम, रायपुर और मिनीमाता स्कूल, अभनपुर में किया गया।

             वहीँ यह नाटक कल यानी सोमवार को मायाराम सुरजन चौबे कॉलोनी माध्यमिक शाला में दिन को 10 बजे से 2 बजे के दौरान 2 कार्यक्रमों का आयोजन है और दोपहर 3 से 5 बजे तक सरस्वती हाई स्कूल, पुरानीबस्ती ( रायपुर ) में एक कार्यक्रम का आयोजन ह।
“मोहन से महात्मा” नामक इस कठपुतली नाटक का प्रदर्शन का उद्देश्य के बारे में जानकारी देते हुए मिथिलेश दुबे का कहना है,- “ इसका उद्देश्य है, समाज में इस कार्यक्रम के माध्यम से शांति एवं सद्भाव फैलाना, स्कूल, कालेज एवं गाँव में शांति संगठन करना एवं इसको प्रशिक्षित कर सक्रिय रूप से कार्य करना। इसके माध्यम से लुप्त हो रही लोक कला को पुनर्जीवित करना, गाँधी जी के अनछुये पहलुओं को लोगों तक पहुँचाना, गाँधी जी के सन्देश को सरल एवं सरस तरीके से प्रस्तुत करना, गाँधी साहित्य को कार्यक्रम के माध्यम से जन-जन तक पहुंचाना।

कौन है ” मोहन से महात्मा ” के पीछे
दुनिया में अहिंसा और शांति के लिए कार्यरत एक शख्स ऐसे भी हैं जो 2006 से इस काम में लगे है। वे है रंगकर्मी मिथिलेश दूबे। एनएसडी यानि राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्ली से पास आउट मिथिलेश कठपुतली नाटक के माध्यम से देशभर में गाँधी जी के जीवन के बारे में कठपुतली नाटक का प्रदर्शन कर रहे है। मिथिलेश दुबे के नेतृत्व में उनका कठपुतली ग्रुप “ क्रिएटिव पपेट थिएटर (ट्रस्ट), वाराणसी इन दिनों छत्तीसगढ़ के प्रवास के आखरी चरण पर है। माता रुक्मणि देवी कन्या आश्रम और राजीव गाँधी फाउंडेशन के सहयोग से बस्तर के बस्तर, सुकमा, दंतेवाडा, बीजापुर, नारायणपुर और कांकेर जिले में पिछले 15 दिन में करीब 55 कार्यक्रमों का आयोजन कर चुके है। और अब पिछले 3 दिनों से यह टीम अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन के सहयोग से धमतरी और रायपुर जिले के स्कूलों में कठपुतली नाटक का प्रदर्शन किया जा रहा है।