अब रायगढ़ के जंगल में हाथी गणेश की साथियों समेत धमक, दहशत

अब तक सात को रौंद कर ले चुका है जान

रायगढ़। धरमजयगढ़ वन मंडल में आधा दर्जन से ज्यादा की जान लेने वाला हाथी गणेश इन दिनों रायगढ़ के जंगल में घूम रहा है। वन विभाग उस पर नजर रखे हुए है। इलाके में लोगों को सचेत रहने और जंगल नहीं जाने मुनादी कराई है। ज्ञात हो कि इस उत्पाती हाथी पर रेडियो कॉलर लगाया गया है।


गणेश हाथी धरमजयगढ़ वन मंडल में लगभग सात जानें ले चुका है। इसके बाद से गणेश की दहशत पूरे धरमजयगढ़ वन मंडल से लेकर रायगढ़ जिला में फैल गई। उग्र होने के कारण उसे बेहोश कर धरमजयगढ़ वन मंडल से दूर ले जाने की भी कोशिश की गई लेकिन कोरबा वन मंडल के आगे उसे नहीं ले जाया जा सका और कॉलर आईडी लगा दिया गया था और लगातार उस पर नजर रखी जा रही है। उसके लोकेशन को सोशल मीडिया के जिरये सर्तक भी किया जा रहा है। बताया जाता है कि रेडियो कालर लगाने के बाद से उसके व्यवहार में काफी बदलाव देखा गया है। काफी दिनों से नुकसान नहीं के बराबर है। अकेले घूमने वाला गणेश अब 15 साथियों के साथ 16 सितंबर की रात तमनार वन परिक्षेत्र के जंगल रास्ते से जुनवानी सर्किल में पहुंचा।

अब तक नहीं पहुंचाया नुक़सान
गणेश के लोकेशन पर नजर रखते हुए वन विभाग ने किसी भी प्रकार का नुकसान न होने बाबत जुनवानी सर्किल के जुनवानी, भैंसगढ़ी, बडग़ांव, कांटाझरिया सहित आसपास के सभी गांव में वन कर्मियों के द्वारा मुनादी करायी गई है और जंगल में अकेले नहीं जाने, हाथियों के नजर आने पर उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं करने सहित बचाव उपाय भी बताए हैं। इधर गणेश हाथी के पूर्व के रवैय्ये को देखते हुए लोगों में इस बात का डर है कि जंगल में अगर उससे सामना हो गया, तो काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। सर्किल प्रभारी, जुनवानी विजय मिश्रा ने बताया कि गणेश हतमनार के जंगल से होते हुए जुनवानी सर्किल में पहुंचा है। भैंसगढ़ी के कक्ष क्रमांक 902 में वह घूम रहा है। उसने वर्तमान में कोई नुकसान नहीं किया है। जुनवानी सर्किल में मुनादी कर ग्रामीणों को सर्तक रहने के लिए कहा गया है।