तस्वीरें : दंतेवाड़ा उप चुनाव के लिए ओजस्वी-देवती ने भरा नामांकन

ओजस्वी के लिए रमन और देवती के लिए सीएम भूपेश पहुंचे

 

दंतेवाड़ा। दंतेवाड़ा उप चुनाव के लिए भाजपा की प्रत्याशी ओजस्वी मंडावी ने अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। भाजपा के साथ ही कांग्रेस की प्रत्याशी देवती कर्मा ने भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मौजूदगी में अपना नामांकन भरा है। दोनों ही दंतेवाड़ा के दिग्गज शहीद हो चुके नेताओं की पत्नियां है। ओजस्वी हाल ही में विधायक निर्वाचित हुए भीमा मण्डावी की धर्मपत्नी है, जिनकी हत्या लोकसभा चुनाव के दौरान नक्सलियों ने कर दी थी।

                 वहीं देवती बस्तर टाइगर के नाम से मशहूर महेंद्र कर्मा की धर्मपत्नी है। जिन्हे झीरम में नक्सलियों नृशंस तरीके से मौत के घात उतार दिया था। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों ने दंतेवाड़ा उपचुनाव के लिए इन पर भरोसा जताया है। दोनों प्रत्याशियों ने नामांकन रैली के दौरान शक्तिप्रदर्शन किया, और हज़ारों की संख्या में कार्यकर्ताओं के साथ दंतेवाड़ा कलेक्ट्रेड पहुंचकर अपना नामांकन दाखिल किया है।

नामांकन के बाद बोले रमन खिलेगा कमल
ओजस्वी मंडावी के साथ नामांकन दाखिले के बाद डॉ रमन सिंह ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा “आज दंतेवाड़ावासियों का आशीर्वाद प्राप्त कर शहीद भीमा मंडावी की धर्मपत्नी श्रीमती ओजस्वी मंडावी ने पुरे विश्वास के साथ भाजपा के वरिष्ठ सदस्यों की उपस्थिति में अपना नामांकन दाखिल किया। मुझे विश्वास है, जनता कुशासन व लाल आतंक को पराजित कर विकास का कमल खिलाएगी।”

भूपेश ने गिनाया सरकार का काम
इधर काँग्रेस के तरफ से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नामांकन रैली से पहले एक सभा को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने जनता के बीच प्रदेश की कांग्रेस सरकार के आठ महीने के कार्यकाल का लेखा जोखा रकः। साथ ही पिछली सरकार और वर्तमान केंद्र सरकार पर भी सियासी तीर चलाए। भूपेश ने जनता से कांग्रेस के बलिदान को याद कर देवती कर्मा को बहुमत से विजयी दिलाने की अपील की है।

ओजस्वी के लिए रमन तो देवती के भूपेश करेंगे प्रचार
भाजपा प्रत्याशी ओजस्वी मंडावी के प्रचार का जिम्मा जहाँ भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह सम्हालेंगे, वहीं देवती कर्मा के लिए खुद सूबा-ए-सदर भूपेश बघेल सियासी मैदान सम्हालेंगे। दोनों ही दिग्गज नेताओं एक बार फिर इस चुनाव के ज़रिए आमने सामने खड़े है। बहरहाल बस्तर संभाग में एक मात्र सीट जितने से भाजपा का मनोबल काफी मज़बूत है।