प्रदेश की नई राज्यपाल…”आनंदी की जगह लेंगी अनुसुईया”

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने की छत्तीसगढ़ और आंध्रप्रदेश में नियुक्तियां

रायपुर। लंबे समय के अंतराल के बाद छत्तीसगढ़ में राज्यपाल की नियुक्ति कर दी गई है। अनुसुइया उइके अब छत्तीसगढ़ के नई राज्यपाल होंगी। गौरतलब है कि बलराम दास टंडन के निधन के बाद मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को छत्तीसगढ़ का प्रभारी राज्यपाल बनाया गया था। जिसके बाद से आज दिनांक तक छत्तीसगढ़ में राज्यपाल की नियुक्ति का इंतजार सभी को था।

               आखिरकार इस इंतजार और कयास को खत्म करते हुए छत्तीसगढ़ में अनुसुइया उइके को पूर्णकालिक राज्यपाल की जिम्मेवारी सौंप दी गई है। गौरतलब है कि अनुसुइया उइके, अनुसूचित जनजाति आयोग की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी रही है। इसके अलावा भी कई अहम जिम्मेदारियों पर भी उन्होंने काम किया है। उइके मूलतः मध्य प्रदेश की रहने वाली है। वे मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद भी रह चुकी है। छिंदवाड़ा से उन्होंने अपना राजनैतिक सफर शुरु किया था। अनुसुइया उइके के आलावा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता विश्व भूषण हरिचंदन को आंध्र प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। 84 वर्षीय हरिचंदन ओडिशा के चिल्का और भुवनेश्वर विधानसभा क्षेत्र से पांच बार विधायक रहे हैं।

सातवें क्रम की राज्यपाल होंगी अनुसुइया
राज्य निर्माण के बाद पहले राज्यपाल के रूप में दिनेश नंदन सहाय के रूप में मिले थे। उनका कार्यकाल 1 नवम्बर 2000 से 01 जून 2003 तक रहा। जिसके बाद दूसरे नंबर पर कृष्ण मोहन सेठ 02 जून 2003 से 25 जनवरी 2007 तक राज्यपाल रहे। केएम सेठ के बाद ई.एस.एल.नरसिंहन ने 25 जनवरी 2007 से 23 जनवरी 2010 तक, शेखर दत्त 23 जनवरी 2010 से 14 जुलाई 2014 तक, बलरामजी दास टण्डन 18 जुलाई 2014 से 14 अगस्त 2018 तक राज्यपाल रहे। टंडन के निधन के बाद छठे नंबर पर आनंदीबेन पटेल को 15 अगस्त 2018 को छत्तीसगढ़ का अतिरिक्त प्रभार सौपा गया था।