औद्योगिक क्रांति लाने वाले डॉ बंसीधर पंडा को दी गई श्रद्धांजलि

ओड़िशा में इंडियन मेटल्स एंड फेरो अलॉयज लिमिटेड की रखी थी नींव

भुवनेश्वर। ओड़िशा में स्वर्गीय डॉ बंसीधर पंडा के नाम से शायद ही कोई ऐसा शख्श होगा जो उनसे प्रभावित न हो। आज उनकी पहली पुण्यतिथि पर प्रदेश के तमाम उद्योगपतियों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। स्वर्गीय डॉ बंसीधर पंडा ने इंडियन मेटल्स एंड फेरो अलॉयज लिमिटेड (IMFA) के संस्थापक थे। भाजपा नेताओं में धर्मेंद्र प्रधान और जुएल ओराम ने ओडिशा में आधुनिक औद्योगिक क्रांति के वास्तुकार को डॉ पंडा को श्रद्धांजलि अर्पित की है। दोनों दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी।

ओराम ने ट्वीट करते हुए लिखा ” ओडिशा के विशिष्ठ शिल्पपति और इम्फ़ा ग्रुप के प्रतिष्ठाता डॉ बंशीधर पंडा को सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।

इधर इम्फ़ा ग्रुप के संस्थापक और अपने पिता को याद करते हुए, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत जय पंडा ने ट्वीट करते हुए लिखा ” एक साल पहले हमने अपने पिता को खो दिया था। वह बीमार थे और मोक्ष की तलाश कर रहे थे, उन्होंने एक पूर्ण जीवन जिया है, उन्होंने हजारों नौकरियों का सृजन किया, समाज के लिए बहुत योगदान। भुवनेश्वर के IMFA मुख्यालय में बैजयंत जे पांडा, जागी पंडा और कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में उनके लिए एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया।

जागी पंडा ने ट्वीट कर लिखा “बंसीधर पांडा, एक देखभाल करने वाले व्यक्तित्व के धनी थे, सिद्धांतों पर चलने वाले व्यक्ति थे, एक प्यार करने वाला पिता और एक बेहद बुद्धिमान / सम्मानित व्यक्ति थे।

एक प्रसिद्ध शोध वैज्ञानिक, बंसीधर पांडा ने संयुक्त राज्य अमेरिका से लौटने के बाद औद्योगिक क्रांति लाने की दृष्टि से यात्रा शुरू की थी और अपने सपनों को पंख देने के लिए ओडिशा के पूर्ववर्ती अविभाजित कोरापुट जिले में एक दूरस्थ चौकी का चयन किया था और 1961 में IMFA ग्रुप स्थापित किया था। व्यवसाय से परे, वह अपनी परोपकारी गतिविधियों और साहित्य के लिए प्रेम के लिए भी जाने जाते थे। कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (CSR) की अवधारणा से बहुत पहले पंडा ने IMFA में समावेशी विकास की संस्कृति को स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।