मतदान विशेष : तब नहीं होता था अमिट स्याही का प्रयोग

तीसरे और अंतिम चरण के मतदान में बुज़ुर्गों का उत्साह

रायपुर। तीसरे चरण के मतदान के लिए रायपुर में बुज़ुर्गों में एक ज़बरदस्त उत्साह नज़र आया है। हर पोलिंग बूथ में जहाँ लंबी कतारों के बीच मतदाता अपनी बारी का इंतज़ार कर रहे है, वहीं बुज़ुर्ग मतदाओं को प्राथमिकता से आयोग की टीम वोट के लिए सहयोग कर रहे है। कुछ मतदान केंद्रों में बुजुर्गों द्वारा वोटर आईडी कार्ड नहीं ले जा पाने की वज़ह से विवाद और ज़िरह की खबरे भी सामने आई थी, हालाँकि निर्वाचन अधिकारी की सहमति के बाद उन्हें भी स-सम्मान मतदान कराया गया।

मतदान विशेष                    रायपुर में फाफाडीह के शहीद स्मारक स्कूल में 86 वर्ष की रानी विरदी अपना मताधिकार का प्रयोग करने पहुंची। मतदान करने के बाद 86 वर्ष की रानी विरदी ने बताया उन्होंने जब अपना पहला वोट डाला था तब चुनावों में अमिट स्याही का उपयोग नहीं होता था। तक केवल दस्तख़त के साथ ही मतदान कराया जाता था।

मतदान विशेष                     इधर पामगढ़ में भी मतदान को लेकर ज़बरदस्त उत्साह दिखा है। पामगढ़ जिला जांजगीर में 99 वर्ष की रोहणी देवी शर्मा ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग किया। रोहणी चल फिर नहीं पति बावजूद उन्होंने व्हीलचेयर पर पहुंचकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। उन्होंने मतदान के बाद कहा कि मतदान मेरा अधिकार है जिसका इस्तमाल करने मै आई हूँ। रोहणी ने कहा कि अब तक मैंने अपने मताधिकार से कई सरकारें चुनी है। और जब तक हूँ तक तक हर परिस्तिथि में अपनी सरकार चुनने मतदान जरूर करुँगी।