पश्चिम बंगाल को संवेदनशील राज्य घोषित करने भाजपा ने रखी मांग

पश्चिम बंगाल में भाजपा वर्सेस तृणमूल कांग्रेस होगा लोकसभा चुनाव

नई दिल्ली। भाजपा ने पश्चिम बंगाल को संवेदनशील राज्य घोषित करने की मांग की है। इसके लिए बकायदा पार्टी की ओर से एक प्रतिनिधिमंडल ने भारत निर्वाचन आयोग के अफसरों से मुलाकात की। भाजपा ने दरख़्वास्त की है कि पश्चिम बंगाल को संवेदनशील राज्य घोषित किया जाए और उसी के तहत चुनाव कराए जाएं।

पश्चिम बंगाल                 पार्टी की और से ये दलील दे गई है कि अगर ऐसे चुनाव होता है तभी निष्पक्ष चुनाव हो सकता है। इसके अलावा भाजपा ने इलेक्शन कमीशन को कुछ अफसरों की लिस्ट भी दी है। लिस्ट सौपने के साथ पार्टी ने दावा किया है कि ये अफसर टीएमसी कैडर के रूप में काम करते हैं। इसके अलावा भाजपा की मांग है कि कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को चुनावी ड्यूटी से हटा दिया जाए। इस प्रतिनिधिमंडल में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, रविशंकर प्रसाद, कैलाश विजयवर्गीय समेत कई दिग्गज नेता शामिल थे। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में इस बार लोकसभा का मुकाबला भाजपा बनाम तृणमूल कांग्रेस होने जा रहा है। लिहाज़ा भाजपा बंगाल में 20 से अधिक लोकसभा सीटें अपने खाते में लाने हर संभव प्रयास कर रहा है।

प्रचार प्रसार के लिए एक हज़ार सभा
बीजेपी के स्टार प्रचारक सभी लोकसभा की सभी सीटों पर प्रचार करेंगे, चाहे वे सीटें भाजपा लड़ रही हो या फिर एनडीए के सहयोगी दल। हालांकि बीजेपी का सबसे ज्यादा फोकस उन राज्यों पर रहेगा, जहां वह अभी मजबूत है और जहां से उसके लिए बेहतर संभावनाएं हैं। करीब दो महीने लंबे चुनाव प्रचार अभियान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के स्टार प्रचारकों की करीब एक हजार सभाएं करेंगे।लोकसभा चुनाव लड़ रहे नेता अपने चुनाव के बाद पूरा समय दूसरी सीटों पर प्रचार और चुनाव से जुड़े संगठन के काम करेंगे।