6th Phase Poling : छठे चरण में 62.27% हुआ मतदान

हर्षवर्धन मेनका समेत कई दिग्गजों की क़िस्मत ईवीएम में क़ैद

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 में देश की राजधानी दिल्ली समेत कुल 7 राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर दिग्गज नेताओ का भाग्य ईवीएम में कैद हो चूकी है। सात राज्यों में सुबह 7 बजे से शुरू हुए 59 पर मतदान में 62.27 फीसदी मतदान हुए है। राज्यवार अगर आंकड़ें देखे तो हिंसा और मौतों के बावजूद सबसे ज़्यादा मतदान पश्चिम बंगाल में 80.16 प्रतिशत हुआ है। बंगाल के बाद सर्वाधिक मतदान का आंकड़ा हरियाणा ने 65.48 प्रतिशत का रहा है। इसके बाद झारखंड में 64.50 फ़ीसदी मतदान दर्ज़ किया है। वहीं मध्य प्रदेश में 62.06 प्रतिशत, बिहार में 59.29 प्रतिशत, दिल्ली में 58.01 प्रतिशत और उत्तर प्रदेश में 54.24 प्रतिशत मतदान दर्ज़ किया गया। जिसमें दिल्ली की 7 सीटों पर, हरियाणा की 10 सीटों पर, उत्तर प्रदेश में 14, मध्य प्रदेश और बिहार की 8-8 और झारखंड की चार सीटों पर मतदान हुए है। बंगाल में मतदान के दिन भी लगातार हिंसा की खबरे भी सामने आई है इसके आलावा यहां कई इलाकों से राजनीतिक हत्याओं की खबर भी मिली है। इन घटनाओं के बावजूद वोटिंग प्रतिशत में लगातार इज़ाफ़ा देखा जा रहा था और आखिर तक मतदाओं का जोश ज़बरदस्त रहा। जिसके बदौलत पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 80.16 प्रतिशत मतदान हुआ है।

                                              छठे चरण के ज़ारी मतदान में भाजपा की ओर से मोदी कैबिनेट में अपनी हिस्सेदारी निभा रहे हर्षवर्धन, राधामोहन सिंह और मेनका गांधी के सियासी किस्मत का फैसला अब ईवीएम में कैद हो चूका है। इसके आलावा समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव की लोकसभा सीट पर भी मतदान आज ही हुआ है। इधर कांग्रेस नेताओं दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया की किस्मत का फैसला भी आज ही ईवीएम में कैद हो चूका है।

ये था 2014 के चुनाव का विजयी आकंड़ा
छठे चरण में लोकसभा के द्वार राज्य उत्तर प्रदेश की 14सीटों पर मतदान ज़ारी है। इसके अलावा हरियाणा की 10 सीट, बिहार और मध्य प्रदेश की 8-8, दिल्ली की सात और झारखंड की चार सीटों पर वोटिंग हो रही है। इन 59 सीटों मेंभारतीय जनता पार्टी ने साल 2014 के चुनाव में 45 सीटों पर अपनी जीत दर्ज़ की थी। इसके आलावा टीएमसी को आठ, कांग्रेस को दो और सपा और लोजपा को एक-एक सीट पर मिली जीत से ही संतुष्ठ होना पड़ा था।