बांग्लादेशी विदेश मंत्री के बाद जापानी प्रधानमंत्री ने भारत दौरा रद्द किया ?

सेना और सुरक्षा बलों का गुवाहाटी शहर में फ्लैग मार्च जारी

नई दिल्ली (आईएएनएस)| बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए. के. अब्दुल मोमिन द्वारा अपनी भारत यात्रा रद्द किए जाने के एक दिन बाद अब जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अपनी भारत यात्रा टाल दी है। जापान के जिजी प्रेस के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में यह जानकारी दी गई है। आबे की यात्रा रविवार से शुरू होने वाली थी। आबे 15 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने वाले थे। दोनों नेताओं की बैठक असम के गुवाहाटी में होनी थी, जहां फिलहाल विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। लोगों का विरोध प्रदर्शन हिंसक होने के बाद असम में सेना को भेजना पड़ा है। आबे की निर्धारित इस यात्रा पर पुनर्विचार इन विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर ही हो रहा है। आईएएनएस ने विदेश मंत्रालय से इस बारे में संपर्क किया तो अधिकारियों ने इससे संबंधित प्रश्न के जवाब नहीं दिए। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को कहा था, “हमारे पास साझा करने के लिए कोई अपडेट नहीं है।”

बांग्लादेश के विदेश मंत्री मोमिन की भारत यात्रा रद्द होने के एक दिन बाद यह बात सामने आई है। विदेश मंत्रालय ने हालांकि गुरुवार को कहा था कि नागरिकता संशोधन विधेयक के पारित होने और यह यात्रा रद्द होने के संबंध में लगाई जा रही अटकलें अनुचित हैं।

गौरतलब है कि असम के डिब्रूगढ़ नगरपालिका क्षेत्र में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया है। सेना और सुरक्षा बलों ने गुवाहाटी शहर में फ्लैग मार्च को जारी रखा है, जिससे शुक्रवार को पांच घंटे तक शांत माहौल देखने को मिला। सुरक्षाबलों के फ्लैग मार्च से एक दिन पहले ही विधेयक के विरोध में हो रहे हिंसक प्रदर्शन में दो व्यक्ति मारे गए थे। असम सरकार ने गुरुवार शाम को जोरहाट, गोलाघाट, तिनसुकिया और चराइदेव जिलों में कर्फ्यू लगा दिया था। इसके अलावा अब असम के तेजपुर और ढेकियाजुली कस्बों में भी कर्फ्यू लगा दिए गए हैं। विधेयक के अनुसार, हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोग, जो 31 दिसंबर, 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से धार्मिक उत्पीड़न का सामना करने के बाद भारत आए हैं, उन्हें अवैध प्रवासी नहीं माना जाएगा और उन्हें भारतीय नागरिकता प्रदान की जाएगी।