तीन राजधानी योजना को लेकर अमरावती बंद

अमरावती से सटे 29 गांवों के लोग सड़कों पर उतरे

अमरावती (IANS)| आंध्र प्रदेश सरकार की राज्य में तीन राजधानियों को विकसित करने की योजना के खिलाफ गुरुवार को बंद बुलाया गया। राज्य की राजधानी के रूप में अमरावती के विकास के लिए अपनी जमीनें देने वाले किसानों और अन्य ग्रामीणों सहित 29 गांवों के लोग सड़कों पर उतर आए, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी सरकार से विशाखापत्तनम और कुरनूल को दो अन्य राज्य की राजधानियों के रूप में विकसित करने के प्रस्ताव को रद्द करने की मांग की। प्रदर्शन के दौरान महिलाओं ने वेलागापुडी स्थित राज्य सचिवालय जाने वाली सड़क को जाम कर दिया है। इस वजह से अपने कार्यालय जाने के लिए राज्य सचिवालय के कर्मचारियों को अन्य मार्गो का प्रयोग करना पड़ रहा है।

हाथों में सरकार विरोधी नारों वाले पोस्टर थामें किसान सुबह से ही विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिनकी मांग है कि सिर्फ अमरावती को ही राजधानी के तौर पर विकसित किया जाए। किसी अनचाही घटना से बचने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए गए हैं। वहीं कुछ क्षेत्रों में प्रदर्शन में विपक्षी दल तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के नेता भी शामिल हुए। अमरावती के लिए 33,000 एकड़ जमीन देने वाले किसानों को डर है कि राज्य की तीन राजधानियों के विकास से उनके हित प्रभावित होंगे। इस बीच प्रदर्शन कर रहे एक व्यक्ति ने कहा, “हमने अपने बच्चों के बेहतर भविष्य की उम्मीद से अपनी जमीनें दीं। सरकार ने हमारी जमीनों को विकसित करने और उन्हें वापस करने का वादा किया था। अब इस फैसले से हमारी सारी उम्मीदों पर पानी फिर गया है।”