नहीं रहे छत्तीसगढ़ के निर्माता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी…

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के राजनितिक गुरु थे अटल बिहारी बाजपेयी

नई दिल्ली / रायपुर। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और छत्तीसगढ़ के निर्माता अटल बिहारी बाजपेयी का दुखद निधन हो गया। वे पिछले महीने से एम्स में भर्ती थे। जिसके बाद कल शाम अचानक उनकी तबीयत बिगडते चली गई। तक़रीबन 40 घंटे से उन्हें लाइफ सपोर्टिंग सिस्टम में रखा गया था। जिसके बाद अटल जी ने अपनी आखरी सांसे ली।
जून महीने से एम्स में भारत अटल बिहारी की यूरिनरी इंफेक्शन, गुर्दा (किडनी) की नली में संक्रमण, चेस्ट टाइटनेस की शिकायत के बाद भर्ती कराया या था। अटल बिहारी का एक ही गुर्दा काम करता है, हालांकि, इन सबमें डिमेंशिया से भी अटल बिहारी वाजपेयी सबसे ज्यादा पीड़ित थे। डिमेंशिया में इंसान की याददाश्त कमजोर होना, अपना डेली रूटीन वर्क भी नहीं करना जैसे हालात बनते है। डिमेंशिया से पीड़ित लोगों में शार्ट मेमोरी जैसे सिम्टम्स भी नज़र आते है। अटल बिहारी वाजपेयी को भर्ती कराने के दौरान उनकी अवस्था यही थी।

अटल बिहारी बाजपेयी

ये है अटल जी की छत्तीसगढ़ से जुडी कुछ ख़ास यादें….

 

कुशाभाऊ समेत तीन विश्वविद्यालयों की रखी आधारशिला
अटल बिहारी बाजपेयी ने बतौर प्रधानमंत्री छत्तीसगढ़ के सर्वांगीण विकास के लिए कई काम किए है। शिक्षा के क्षेत्र में उनके हाथो तीन विश्वविद्यालओं की आधारशिला रखी गई थी। जिसमें प्रदेश का इकलौता पत्रकारिता विश्वविद्यालय कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विवि भी शामिल है। उनकी कविता कदम मिलाकर चलना होगा ही पत्रकारिता विवि की कुलगीत बनी। इसके आलावा अटल बिहारी ने पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विवि बिलासपुर और तकनीकी विवि दुर्ग की भी स्थापना की थी।

Atal Bihari in raipur

मुख्यमंत्री डॉ रमन के राजनैतिक गुरु
15 साल की सरकार चलाने और राजनीति में बेदाग़ रहने का  गुरु अगर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने किसी से सीखा है तो वे अटल जी ही है। अटल जी मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के राजनितिक गुरु भी थे। अटल जी जब भी छत्तीसगढ़ प्रवास पर आते या फिर मुख्यमंत्री डॉ रमन की उनसे मुलाकात होती तो रामन उनके चरणस्पर्श कर आशीर्वाद लेना नहीं भूलते थे। रामन सिंह ने उनकी हालत नाज़ुक होने की स्तिथि में ट्वीट कर लिखा- ” मेरे गुरु व राजनीति के अजातशत्रु श्री #AtalBihariVaajpayee जी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं। आप जल्द ही स्वस्थ हो कर अपने आशीर्वाद से हम सभी का मार्गदर्शन करें। ”

Vajpayee

अटल जी का जन्मदिन बना सुशासन दिवस
छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माता अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन छत्तीसगढ़ में सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसकी शुरुवात खुद मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने की थी। मुख्यमंत्री ने इस संदर्भ में कहा था कि अटल बिहारी वाजपेयी की बात दिल से निकलकर दिल तक पहुंचती है। किसी भी व्यक्ति का अटल के साथ बिताया गया पल, उस व्यक्ति के साथ धरोहर के रूप में रहता है। उनके जीवनशैली के भीतर का अनुशासन हमें प्रेरणा देता है।