अटल थे…अटल है…लिखकर ट्वीटर में दिग्गज़ों ने दी श्रद्धांजलि…

घर पर अंतिम दर्शन के लिए रखा अटल बिहारी का पार्थिव शरीर…

नई दिल्ली / रायपुर। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद देशभर में शोक की लहार है। देशभर से तमाम दिग्गज नेताओं ने उन्हें अपने ट्वीटर से श्रद्धांजलि दी है। पीएम नरेंद्र मोदी ने जहाँ अटल जी के लिए ट्वीट कर लिखा- ” मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं, लेकिन भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा है। हम सभी के श्रद्धेय अटल जी हमारे बीच नहीं रहे। अपने जीवन का प्रत्येक पल उन्होंने राष्ट्र को समर्पित कर दिया था। उनका जाना, एक युग का अंत है। ”

इसके बाद उन्होंने लिखा ” अटल जी आज हमारे बीच में नहीं रहे, लेकिन उनकी प्रेरणा, उनका मार्गदर्शन, हर भारतीय को, हर भाजपा कार्यकर्ता को हमेशा मिलता रहेगा। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और उनके हर स्नेही को ये दुःख सहन करने की शक्ति दे। ओम शांति ! ”
पीएम ने एक और ट्वीट में लिखा ” अटल जी का गुजरना मेरे लिए एक निजी और अपरिवर्तनीय नुकसान है। मेरे पास अनगिनत यादगार यादें हैं। वह मेरे जैसे कार्यकार्तस के लिए एक प्रेरणा थी। मैं विशेष रूप से अपनी तेज बुद्धि और उत्कृष्ट बुद्धि को याद रखूंगा। ”

इसके साथ ही अमित शाह ने भी बैक टू बैक चार ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। शाह ने पहले ट्वीट में लिखा- ” अपने जीवन का क्षण-क्षण और शरीर का कण-कण देश, संगठन व विचारधारा को पूर्णतः समर्पित कर देना इतना आसान नहीं होता। अटल जी को हम सब ने एक आदर्श स्वयंसेवक, समर्पित कार्यकर्ता, कवि, ओजस्वी वक्ता व अद्भुत राजनेता के रूप में देखा। ”

इसके बाद उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा- ” भाजपा के संस्थापक और प्रथम अध्यक्ष के नाते उन्होंने संगठन को अपने तप और अथक परिश्रम से सींच कर एक वटवृक्ष बनाया। ”
अपने तीसरे ट्वीट में शाह ने लिखा- ” अटल जी की छवि इस देश के एक ऐसे जनप्रिय राष्ट्रीय नेता के रूप में उभरी जिसने सत्ता को सेवा का माध्यम माना और राष्ट्रहितों समझौता किये बगैर बेदाग राजनीतिक जीवन जिया। और यही वजह रही कि देश की जनता ने अपनी सामाजिक और राजनीतिक सीमाओं से बाहर जा कर उन्हें प्यार और सम्मान दिया। ”

शाह ने आगे उनके राजनैतिक जीवन के बारे में भावुक होते हुए लिखा- ” जहां एक तरफ अटल जी ने विपक्ष में जन्मी पार्टी के संस्थापक व सर्वोच्च नेता के तौर पर संसद और देश में एक आदर्श विपक्ष की भूमिका निभाई वहीं प्रधानमंत्री के रूप में देश को एक निर्णायक नेतृत्व भी प्रदान किया। अटल जी ने अपने विचारों और सिद्धांतों से भारतीय राजनीति पर अमिट छाप छोड़ी है। ”

आइए देखिए किसने क्या कहा…

 

लाल कृष्ण आडवाणी….

राहुल गाँधी…

लालू प्रसाद यादव….

रामलाल…

धर्म लाल कौशिक…