अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां ले दिल्ली से हरिद्वार रवाना हुई नमिता

देशभर की नदियों में डाली जाएंगी अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां और राख

नई दिल्ली। 16 अगस्त को आखरी साँस लेने वाले देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां पुरे देशभर में विसर्जित की जाएगी। जिसकी शुरुवात हरिद्वार में ” हर की पौरी ” से की जाएगी।

अटल बिहारी वाजपेयी

दिल्ली स्मृति स्थल से अटल जी की राख लेकर उनकी दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य और पोती निहारिका हरिद्वार के लिए रवाना हो चुकी है। हरिद्वार में अटल जी की अस्थियां विसर्जन से शुरुवात हुई। अस्थि विसर्जन के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत भी मौज़ूद रहेंगे।

अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां

देशभर में विसर्जित होंगी राख
हरिद्वार के बाद वाजपेयी की राख देश भर में विभिन्न नदियों में विसर्जित की जाएगी। योगी सरकार ने शुक्रवार को घोषणा की थी कि यह गंगा, यमुना और तापी समेत उत्तर प्रदेश की सभी पवित्र नदियों में अटल जी की राख विसर्जित करेंगे। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि उत्तर प्रदेश वाजपेयी की कार्यस्थली रही है। राज्य भर की सभी नदियों में अपनी राख डालने से लोगों को अटल जी के अंतिम संस्कारों का हिस्सा बनने का मौका मिलेगा।

गुरूवार को हुआ था निधन
भारत के 10 वें प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुरुवार की शाम को अपनी आखिरी साँस ली थी। शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में स्मृति स्थल में पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया था। पूर्व प्रधानमंत्री के पूर्वजों का घर आगरा के बटेश्वर में है। लंबे समय तक बीमारी के बाद ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में उनका निधन हुआ था। वह 93 वर्ष के थे।