Ayodhya case : 18 अक्टूबर तक सुनवाई होगी पूरी नवंबर में होगा फैसला

रंजन गोगोई ने कहा - हम सभी को संयुक्त प्रयास करना होगा

नई दिल्ली। अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में लगातार सुनवाई के 26वें दिन चीफ जस्टिस ऑफ़ इंडिया ने एक बड़ी टिप्पणी की है। सर्वोच्च न्यायलय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने इस मामलें की सुनवाई के दौरान कहा है कि हम सभी को संयुक्त प्रयास करना होगा। इस मामलें पक्षकार अगर समझौता कर अदालत को बताना चाहते है तो इस दिशा में भी प्रयास किए जाएंगे। इस केस की सुनवाई 18 अक्टूबर तक पूरी होने की उम्मीद भी जताई। मिली जानकारी के मुताबिक़ 27 सितंबर तक मुस्लिम पक्षकार अपनी बहस पूरी कर लेंगे।

             मुस्लिम पक्षकारों की तरफ से राजीव धवन ने कहा कि अगले हफ़्ते तक हम अपनी बहस पूरी कर लेंगे। वही रामलला विराजमान की तरफ से कहा गया कि उन्हें कोर्ट में जवाब देने के लिए 2 दिनों का वक्त चहिये। सीजेआई गोगोई ने कहा कि हमें उम्मीद है कि हम अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में 18 अक्टूबर तक सुनवाई पूरी कर लेंगे। इसके लिए हम सभी को संयुक्त प्रयास करना होगा। इसके बाद जजमेंट लिखने के लिए जजों को चार हफ्तों का वक्त मिलेगा। उन्होंने कहा कि अगर पक्षकार इस मामले को मध्यस्थता समेत अन्य तरीके से सैटल करना चाहते हैं तो कर सकते है। चीफ जस्टिस ने सभी पक्षकारों से कहा कि मध्यस्थता को लेकर पैनल का पत्र मिला है, अगर सभी पक्ष आपसी बातचीत कर मसले का समझौता करना चाहते है तो कर के कोर्ट के समक्ष रखे।

संबंधित पोस्ट

उप्र : अयोध्या में बहुप्रतीक्षित राम मंदिर का काम बुधवार से

इकबाल अंसारी ने बाबरी विध्वंस का मामले को जल्द खत्म करने की मांग की

अधिग्रहित 67 एकड़ जमीन ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ को सौंपी

मप्र : राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल नहीं किए जाने से शंकराचार्य नाराज

चैत्र नवरात्र में शुरू हो राम मंदिर का निर्माण : विहिप

जिन गांवों से ईंटे आईं वहां राममंदिर बनाएगा विहिप

अयोध्या रेलवे स्टेशन को दिया जाएगा मंदिर जैसा रूप

Big News : राम मंदिर पर फैसला नामंज़ूर, बोर्ड ने कहा – नहीं चाहिए ज़मींन

मंदिर के ट्रस्ट को लेकर वेदांती ने खड़ा किया नया विवाद

…तो अगले आम चुनाव से पहले “राममंदिर तैयार”

सिद्धू पर भड़की भाजपा, कहा-सोनिया गांधी माँगे माफ़ी

अयोध्या फैसला : राजनाथ, शाह, भूपेश समेत नेताओं ने की शांति की अपील