भाजपा महासचिव राम माधव ने कहा, लद्दाख में अक्साई चिन शामिल है

पाक की तरह चीन के खिलाफ भी तत्परता दिखाए भारत

नई दिल्ली। एक महत्वपूर्ण बयान में, भाजपा महासचिव राम माधव ने भारत-चीन के बढ़ते तनाव के बीच अक्साई चिन पर भारत के दावे को दोहराया है। उन्होंने बुधवार को कहा कि भारत जिस तरह की मुखरता पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा पर दिखाता है उसी तरह की तत्परता चीन के साथ भी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दिखानी चाहिए।

राम माधव ने कहा कि मौजूदा संघर्ष का समाधान चीन के साथ कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर चीन को सक्रिय रूप से घेरना है। भाजपा नेता आरएसएस के मुखपत्र ‘आर्गेनाइजर’ द्वारा भारत-चीन सीमा विवाद पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा, “हमारा दावा केवल एलएसी नहीं है। हमारा दावा इससे आगे का है। जब बात जम्मू एवं कश्मीर की आती है तो, इसमें पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भी शामिल है, उसी तरह से लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश की बात आती है तो इसमें गिलगित-बल्टिस्तान और अक्साई चिन भी शामिल है।”

माधव ने हालांकि जोर देकर कहा कि भारत चीन के साथ युद्ध नहीं चाहता है, लेकिन भारत को अपने तरफ की एलएसी के आत्मसम्मान की रक्षा करने की जरूरत है।

उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि आज का चीन ज्यादा आक्रामक है। लेकिन उन्होंने दावा किया कि आज का आक्रामक चीन मुखर भारत का नतीजा है।

राम माधव ने दावा किया कि चीन अपनी इच्छा से कभी भी सीमा विवाद को सुलझाना नहीं चाहता है। यही वजह है कि जब पी.वी. नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री थे, चीन ने मौजूदा शब्द को आपसी समझौते में डालने से इनकार कर दिया था।

माधव ने  कहा, “हम हमेशा शांति चाहते हैं। उन्होंने सूची बताते हुए कहा कि चाहे 1988 में राजीव गांधी, 1993 में नरसिम्हा राव हो या देवेगौड़ा या फिर यूपीए सरकार हो, सभी ने ड्रैगन से धोखा खाने के लिए चीन के साथ शांति स्थापना की कोशिश की।”

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

चीन ने मुझे बलूच आंदोलन को कुचलने के लिए तैनात किया है : पाक जनरल

चीन ने भारतीय सेना को सौंपे अरुणाचल से लापता पांचों युवाओं को

चीन ने एलएसी के करीब बैरक, 5जी संरचना का निर्माण शुरू किया

चीन ने पाक को अफगानिस्तान से लगी 5 प्रमुख सीमाएं खोलने को कहा

चीन ने आखिरकार माना, उसने भारत से संघर्ष में ’20 से कम’ सैनिक गंवाए

मोदी के घुसपैठ की बात नकारने के बाद चीन का गलवान घाटी पर दावा

पीएम मोदी ने कहा, ‘न हमारी सीमा में कोई घुसा है, न हमारी पोस्ट किसी के कब्जे में है’

झड़प के बाद चीन के खिलाफ देश के लोगों का मूड 1962 जैसा

चीन तिब्बत में भारत संग सीमा विवाद 2001 में सुलझाना चाहता था

चीन का गलवान घाटी पर दावा, कहा इलाका हमेशा हमारे पास रहा

जवानों की हत्या पर क्यों चुप हैं प्रधानमंत्री मोदी : राहुल गांधी

चीन ने यथास्थिति बदलने की कोशिश की, दोनों पक्षों में हताहत : विदेश मंत्रालय