भव्य जीत की तरफ़ भाजपा, शाह दर्ज़ करेंगे ऐतिहासिक जीत

300 पार के आंकड़ों की हो सकती है भाजपा की जीत

नई दिल्ली। देशभर में हो रही मतगणना के में अब तक की सबसे बड़ी बढ़त भाजपा को मिली है। वाराणसी से भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ रहे नरेंद्र दामोदर दास मोदी उर्फ़ नरेंद्र मोदी लगभग सवा लाख वोटों से ज़्यादा मतों से आगे निकल चुके है। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को इस चुनाव में सबसे बड़ी जीत मिल सकती है।

भव्य जीत की तरफ़ भाजपा                  अमित शाह गांधीनगर की लोकसभा सीट से तकरीबन 1 लाख 86 हज़ार वोटों की बनाई बढ़त वोटों से भी ज्यादा आगे बढ़ चुके हैं। इसके साथ ही देशभर के आंकड़ों पर अगर नजर डाली जाए तो एनडीए 326 सीटों पर एकतरफा बढ़त बनाए हुए है। वही कांग्रेस महज़ 102 लोकसभा सीटों पर बढ़त हासिल कर पाई है। लोकसभा चुनाव की मैदानी कुश्ती में उतरे अन्य क्षेत्रीय दलों ने 88 सीटों पर अपना दबदबा कायम रखा है। वहीं उत्तरप्रदेश में महगठबंधन की नीव रखने वाले सपा और बसपा के खाते में महज 26 सीटें नज़र आ रही है। इन आंकड़ों पर अगर गौर किया जाए तो भाजपा का गठबंधन एनडीए अपनी सरकार बनाते दिख रही है। हालंकि मतगणना अभी जारी है।

राहुल को मिली स्मृति से चुनौती
इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक अमेठी से केंद्रीय मंत्री ईरानी कांग्रेस अध्यक्ष से तक़रीबन 6000 वोटों से आगे चल रही हैं। अमेठी में इस बार भी भारतीय जनता पार्टी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को राहुल गांधी के खिलाफ मैदान में उतारा है। हालांकि वायनाड सीट पर राहुल गांधी का जादू चला है। वायनाड से राहुल गांधी को अब तक 1 लाख 50 हज़ार वोटों की बढ़त मिल चुकी है।

संबंधित पोस्ट

आप ने भाजपा से पूछा, आपका मुख्यमंत्री उम्मीदवार कौन है?

संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में फैसला ले केंद्र : सुप्रीम कोर्ट

अजय देवगन की फिल्म ‘तानाजी’ हरियाणा में हुई टैक्स फ्री

दिल्ली चुनाव : जजपा को 4-5 सीटें दे सकती है भाजपा

कद्दू नहीं, ये है छप्पन भोग

महंगाई को लेकर प्रियंका का मोदी सरकार पर वार

श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम से कोलकाता पोर्ट नामित

सीएए पर अफवाहों को हवा दे रहे कुछ राजनीतिक दल : मोदी

भानुप्रतापपुर के पूर्व भाजपा मंडल अध्यक्ष पर हमला

भाजपा के हनी ट्रैप में 52, 72, 000

केरल में 1 लाख लोग इस तरह करेंगे शाह का स्वागत 

दिल्ली में कार्यकर्ताओं से बोले शाह, सभाओं से नहीं मोहल्ला मीटिंग से लड़ेंगे चुनाव