उत्तरप्रदेश में CAA हिंसा, मौत का आंकड़ा 12 पर…

यूपी में स्थिति दिन ब दिन हो रही है गंभीर

नई दिल्ली। देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ जनता में भड़की आग थमने का नाम नहीं ले रही है। इस सीएए हिंसा के कारण उत्तरप्रदेश में स्थिति दिन व दिन गंभीर होती जा रही है। शुक्रवार को सीएए का विरोध करने वाली जनता को एक बार फिर से पुलिस का सामना करना पड़ा, जिसमें अब तक मरने वालों की संख्या नौ हो चुकी है। इसी तरह गुरुवार को सीएए हिंसा के कारण तीन लोगों की मौत हो चुकी है। कुल मिलाकर अब तक सीएए की आग में 12 लोगों की जानें जा चुकी हैं। वहीं, उत्तरप्रदेश की पुलिस ने भले ही मरने वालों की संख्या को स्वीकार किया है, लेकिन चौकाने वाला बयान देकर इसके पीछे पुलिस का हाथ होने की बात से पल्ला झाड़ लिया है।

पुलिस प्रशासन का कहना है कि आंदोलनकारियों को तितर-बितर करने के लिए उन्होंने लाठियां चटकायी, आंसू गैंस छोड़े और गोलीबारी भी की थी। लेकिन पुलिस की गोली से किसी आंदोलनकारी की मौत नहीं हुई है। उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि हम आंदोलनकारियों पर एक बार भी गोली नहीं चलाएं हैं। वहीं, अन्य एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि प्रदर्शन के दौरान यदि बंदूक चली तो वह आंदोलनकारियों की तरफ से चली थी। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में आंदोलनरत जनता और पुलिस के बीच संघर्ष हुआ था। आंदोलनकारियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की तो वहीं पुलिस ने भी जनता पर आंसू गैस फैंके और लाठियां चटकायी। जिसके बाद हिंसा की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। इस हिंसा में बिजनोर के दो आंदोलनकारियों की मौत हो गई जबकि संबल, फिरोजाबाद, मेरठ और कानपुर में एक-एक की जान चली गई।

वही, अस्पताल सूत्रों से पता चला है कि इस हिंसा में हुई गोलीबारी से मरने वालों की संख्या नौ हो गई है। इस हिंसा में घायलों की संख्या भी 50 से अधिक बतायी जा रही है। गौरतलब है कि शुक्रवार को नमाज अता करने के बाद उत्तर प्रदेश के करीब 13 जिलों के लोग सड़कों पर उतर आए और पथावरोध किया था। पुलिस ने उनकी रैली पर रोक लगाने का प्रयास किया, लेकिन आंदोलनरत जनता ने उनकी एक नहीं सूनी। इसलिए पुलिस ने उनपर कार्रवाई की थी। स्थिति को ध्यान में रखते हुए उत्तप्रदेश के प्रमुख शहरों में अगले 45 घंटों तक डिजिटल लॉकडाउन जारी रखा गया था।

संबंधित पोस्ट

भारत हिंदू राष्ट्र होता तो सीएए की जरूरत नहीं पड़ती : हिंदू महासभा

केरल मंत्रिमंडल का सीएए के खिलाफ सख्त रूख

सीएए के खिलाफ रणनीति बनाएंगे विपक्ष दल

सीएए पर अफवाहों को हवा दे रहे कुछ राजनीतिक दल : मोदी

देश के मुसलमानों के लिए हिन्दुस्तान से सुरक्षित जगह कोई नहीं : नकवी

सीएए देशहित में नहीं, राज्य में इसे लागू नहीं होने देंगे : कमलनाथ

सुप्रीम कोर्ट हिंसा रुकने के बाद ही सीएए की वैधता तय करेगा

सीएए पर कांग्रेस की बैठक में शामिल नहीं होंगी ममता बनर्जी

सदफ, दारापुरी जेल से रिहा, संघर्ष जारी रखेंगे

भाजपा के हनी ट्रैप में 52, 72, 000

जामिया में सोमवार से शुरू होगी पढ़ाई

भागवत इंदौर पहुंचे, संघ की बैठक में भाजपा नेता भी लेंगे हिस्सा