जम्मू कश्मीर के विकास का ख़ाका तैयार करेगा केंद्र सरकार का पैनल

जम्मू कश्मीर की जरुरत और विकास पर देंगे कार्ययोजनाएं

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के विकास का खाका तैयार करने के लिए मोदी सरकार ने केंद्रीय मंत्रियों के एक समूह का गठन किया है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक उनकी रिपोर्ट राज्य के लिए किसी भी आर्थिक पैकेज का आधार बनेगी। समिति की अध्यक्षता केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद करेंगे। इसके सदस्यों में जितेन्द्र सिंह, धर्मेंद्र प्रधान और नरेंद्र तोमर शामिल है। ये समिति जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश की स्थिति में आने से पहले अपनी रिपोर्ट सौपेगी। केंद्रीय मंत्रियों को इसके लिए 30 अक्टूबर तक की मोहलत दी गई है।


गौरतलब है कि 5 अगस्त को संसद में जम्मू-कश्मीर में व्यापक कदम की घोषणा करते हुए, गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि यह जम्मू-कश्मीर के लिए सरकार की विकास योजनाओं का मार्ग प्रशस्त करेगा। सरकार ने यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर को केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा देना विकास को सुगम बनाने के लिए था, क्योंकि वह इसे केंद्रीय शासन में लाएगी। केंद्र ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश बनने से तेजी से जगह विकसित करने में मदद मिलेगी। उनकी तरफ से देश और जम्मू कश्मीर और लद्दाख़ की जनता को यह विश्वास दिलाते हुए कहा था कि जम्मू और कश्मीर लंबे समय तक एक केंद्र शासित प्रदेश नहीं रहेगा।

                        प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 अगस्त को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि सरकार का निर्णय केवल लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकता है। इसका अर्थ होगा भारतीय कानूनों का संरक्षण, औद्योगीकरण, पर्यटन और रोजगार में वृद्धि। राजनीतिक रूप से, बहुत कुछ नहीं बदलेगा, उन्होंने आश्वासन दिया।

नहीं होगी केंद्र शासित प्रदेश की जरुरत-मोदी
धारा 370 हटाए जाने के बाद पीएम मोदी ने कहा अपने 38 मिनट के भाषण में कहा था कि “यह बहुत सोच-विचार के बाद उठाया गया कदम था…मुझे नहीं लगता कि जम्मू-कश्मीर को केंद्रशासित प्रदेश के रूप में लंबे समय तक रखने की आवश्यकता होगी, हालांकि लद्दाख के लिए केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा बरकरार रहेगा। ” संसद में सरकार की बड़ी घोषणा के बाद, जम्मू और कश्मीर 4 अगस्त से बंद था। 50,000 से अधिक सुरक्षाकर्मी सड़कों और फोन सेवा पर हैं और इंटरनेट अभी भी बंद है। पूर्व मुख्यमंत्रियों महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला सहित राज्य के मुख्यधारा के नेताओं की गिरफ्तारी हुई है।