Chandryaan 2 : टिल्टेड पोजीशन में चाँद के पास लैंडर विक्रम

Chandryaan 2 लैंडर विक्रम से सम्पर्क करने की कोशिश ज़ारी

बेंगलुरु। उम्मीद न हारते हुए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने चंद्रयान 2 के लैंडर ‘विक्रम’ के साथ सम्पर्क स्थापित करने के लिए हर संभव प्रयास जारी रखा है। अब कड़ी मेहनत के बाद लैंडर विक्रम चाँद की सतह पर दिखाई दिया था। लैंडर “विक्रम” का संपर्क शनिवार के शुरुआती घंटों में, चांद की सतह से केवल 2.1 किमी ऊपर लैंडिंग से पहले ग्राउंड स्टेशन से कम्युनिकेशन नहीं हो पाया था।
बहरहाल आज कुछ ने अपडेट्स इस मामलें में मिले है। इसरों के एक अधिकारी की मानें तो “ऑर्बिटर के ऑन-बोर्ड कैमरे द्वारा भेजे गए चित्रों के अनुसार यह नियोजित (टच-डाउन) साइट के बहुत करीब था। लैंडर सेफ साइड है फिलहाल उसमे किसी तरह का कोई नुक़सान लैंडर विक्रम को नहीं हुआ था।


अधिकारी ने कहा, “हम यह देखने का प्रयास कर रहे हैं कि क्या लैंडर के साथ संचार फिर से स्थापित किया जा सकता है।” चंद्रयान 2 में एक ऑर्बिट, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) शामिल हैं। लैंडर और रोवर का जीवन एक चंद्र दिन है, जो 14 पृथ्वी दिनों के बराबर है। इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने शनिवार को कहा था कि अंतरिक्ष एजेंसी 14 दिनों के लिए लैंडर से कनेक्ट करने की कोशिश करेगी।

इसरो के एक अधिकारी ने कहा: “जब तक और जब तक सब कुछ बरकरार नहीं होता है (लैंडर), यह बहुत मुश्किल है (संपर्क को फिर से स्थापित करने के लिए)। संभावनाएं कम हैं। केवल अगर इसमें सॉफ्ट-लैंडिंग थी, और यदि सभी सिस्टम कार्य करते हैं, तो केवल संचार हो सकता है। बहाल कर दिया गया है। चीजें अब के रूप में धूमिल हैं।”