महाराष्ट्र के IPS अब्दुर रहमान का इस्तीफ़ा, ये बताई वज़ह…

नागरिकता (संशोधन) विधेयक को बताया संविधान की मूल विशेषता के खिलाफ

मुंबई। महाराष्ट्र कैडर के एक भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक या सीएबी के विरोध में सरकारी सेवा छोड़ने के अपने फैसले की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि “ये बिल संविधान की मूल विशेषता के खिलाफ”।
आईपीएस अब्दुर रहमान, जो वर्तमान में मुंबई में मानवाधिकार आयोग में तैनात है। उन्होंने ट्विटर पर अपने इस्तीफे की घोषणा की और बुधवार को राज्यसभा द्वारा मंजूरी देने से पहले बिल की निंदा की।
“# नागरिकता संविधान संशोधन 2019 संविधान की मूल विशेषता के खिलाफ है। मैं इस विधेयक की निंदा करता हूं। सविनय अवज्ञा में मैंने कल से कार्यालय में उपस्थित नहीं होने का फैसला किया है। मैं आखिरकार सेवा छोड़ रहा हूं,” उन्होंने अपने त्याग पत्र की तस्वीरों के साथ ट्वीट किया।

रहमान महाराष्ट्र राज्य मानवाधिकार आयोग में पुलिस महानिरीक्षक या IGP रैंक के अधिकारी हैं। एक अन्य ट्वीट में, उन्होंने कहा “यह विधेयक भारत के धार्मिक बहुलवाद के खिलाफ है। मैं सभी न्यायप्रिय लोगों से अनुरोध करता हूं कि वे लोकतांत्रिक तरीके से इस बिल का विरोध करें। यह संविधान की मूल विशेषता के खिलाफ है।”

गौरतलब है कि सोमवार को लोकसभा में पेश किए जाने के बाद से ही रहमान बिल के खिलाफ बोल रहे हैं। उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह पर इतिहास को विकृत करने और “भ्रामक जानकारी” पेश करने का भी आरोप लगाया। नागरिकता (संशोधन) विधेयक पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से गैर-मुस्लिम प्रवासियों के लिए आसान बनाना चाहता है, जिन्होंने भारतीय नागरिक बनने के लिए 2015 से पहले देश में प्रवेश किया था।