शीत सत्र : लोकसभा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक

NRC समेत कई अहम बिल लाएगी मोदी सरकार

नई दिल्ली। लोकसभा में शीतकालीन सत्र की शुरुवात से पहले सर्वदलीय बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला विभिन्न दलों के नेताओं के साथ सदन चलने को लेकर चर्चा की है। इधर इस शीतकालीन सत्र में केंद्र सरकार को विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) विधेयक सदन में पारित करने की नियत से लाएगा। इस विधेयक का उद्देश्य पड़ोसी देशों से गैर-मुस्लिम प्रवासियों को राष्ट्रीयता प्रदान करना है। इसके आलावा दिल्ली में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने और डॉक्टरों पर हमले के लिए कुछ फैसले इस सदन में होने की उम्मीद जताई जा रही है। साथ ही सरकार कॉरपोरेट टैक्स दर में कटौती और ई-सिगरेट पर दो अध्यादेशों को बदलने के लिए बिल भी लाएगी। विपक्ष आर्थिक मंदी और बेरोजगारी को लेकर सरकार पर निशाना साधने की संभावना है। वहीं सर्वदलीय बैठक में जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला को हिरासत में रखे जाने का मुद्दा भी उठा जिस पर चर्चा की गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उम्मीद जताई कि संसद का शीतकालीन सत्र “उत्पादक” और “जन केंद्रित मुद्दों” पर चर्चा होगी।

इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, लोकसभा में नेता विपक्ष और कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी, राज्यसभा में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा शामिल हुए. इसके अलावा टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन, एलजेपी नेता चिराग पासवान, समाजवादी पार्टी नेता राम गोपाल यादव, तेलुगू देशम पार्टी नेता जयदेव गल्ला, वी विजयसाई रेड्डी भी बैठक का हिस्सा रहे।

शिवसेना का बायकॉट
वहीं एनडीए की संसदीय दल की भी मीटिंग आज हुई जिसमें शिवसेना शामिल नहीं हुई। नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री रहे शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने कुछ दिनों पहले इस्तीफा दे दिया है। महाराष्ट्र में शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिशों में लगी है। इधर इन बैठकों के बाद विपक्ष ने ये साफ कर दिया कि वह मंदी, बेरोजगारी और किसानों के मुद्दे के अलावा जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने और वहां की स्थिति के बारे में सदन में सवाल दागे जाएंगे। वहीं कांग्रेस गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने को लेकर भी सरकार की घेराबंदी करने की तैयारी में है।