योग को उत्कृष्टता प्रदान करने वालो को मोदी की बधाई

प्रधानमंत्री ने दी 6 भाषा में पुरस्कृत योग शिक्षकों को बधाई

नई दिल्ली | पीएम मोदी ने शनिवार को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग के उत्कृष्ट योगदान और विकास के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार से सम्मानित चार लोगों को बधाई दी। योग के उत्कृष्ट विकास और विकास के लिए उत्कृष्ट योगदान पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र की छह आधिकारिक भाषाओं में अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर अपना संदेश पोस्ट किया – स्पेनिश, फ्रेंच, अरबी, रूसी, चीनी और अंग्रेजी। पीएम ने लिखा-‘‘उन लोगों को बधाई, जिन्हें योग के विकास और विकास के लिए उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रधान मंत्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है‘‘ योग-2019 के संवर्धन और विकास के लिए उत्कृष्ट योगदान। अमीर लोगों ने योग को अपनाने के लिए और हमारे ग्रह स्वस्थ हो जाते हैं यह सुनिश्चित करने के लिए समृद्ध काम किया, मोदी ने ट्वीट किया।

योग विजेतओं को मोदी का ट्वीट
21 जून 2016 को चंडीगढ़ में द्वितीय अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह के अवसर पर, प्रधानमंत्री ने पुरस्कार की घोषणा की थी। इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाले हैं – लाइफ मिशन के स्वामी राजर्षि मुनि, इटली के एंटोनियेटा रोजी, बिहार स्कूल ऑफ योग और जापान योग निकेतन। गुजरात के स्वामी राजर्षि मुनि को उनके योगदान के लिए सम्मानित करते हुए, पीएम मोदी ने कहा‘ ‘‘स्वामी राजर्षि मुनि ने योग को फैलाने के लिए उल्लेखनीय प्रयास किए हैं। विशेष रूप से, उन्होंने जीवन मिशन की स्थापना की। साथ ही लकीश योग विश्वविद्यालय से जुड़े छात्रों को उत्कृष्टता प्रदान करने का भी उनहोने उल्लेख किया है। योग और समाज सेवा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता भी उत्कृष्ट है। राजश्री मुनि ने 1993 में लकुलिश इंटरनेशनल फेलोशिप एनलाइटमेंट मिशन (लाइफ मिशन) की स्थापना की थी, और मिशन ने योग के प्रचार के साथ-साथ मानवीय सेवा के लिए भी पर्याप्त कार्य किए हैं।

एंटोनियेटा रोज्जी को पीएम की बधाई
इसी तरह एंटोनियेटा रोज्जी की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके असाधारण भक्ति और उल्लेखनीय योगदान को याद किया। प्रधानमंत्री ने इतालवी में ट्वीट किया- -एंटोनियेटा रोजजी इटली से संबंधित है और 4 दशकों से योग का अभ्यास कर रही है। उन्होंने सर्व योग इंटरनेशनल की स्थापना की और पूरे यूरोप में योग को लोकप्रिय बनाया। हमें उनके जैसे समर्पित व्यक्तियों पर गर्व है! रोजी यूरोप में योग पेशेवर निकायों में कई महत्वपूर्ण पदों पर हैं। उनके काम ने योग को एक होनहार शैक्षणिक क्षेत्र के रूप में और योग चिकित्सा को यूरोप के कुछ हिस्सों में व्यवहाािक चिकित्सा प्रणाली के रूप में मान्यता दी है।

पीएम ने की स्वामी सत्यानंद सरस्वती की सराहना
बिहार के स्वामी सत्यानंद सरस्वती द्वारा स्थापित योग को उनके योग और प्रकाशन के लिए प्रधान मंत्री द्वारा सराहना की गई। ‘बिहार स्कूल ऑफ योगा‘ मुंगेर में 50 वर्षों से सक्रिय रूप से काम कर रहा है। वे फिटनेस को बेहतर बनाने के उद्देश्य से आधुनिक ज्ञान के साथ प्राचीन ज्ञान का विलय करते हैं, मोदी ने कहा।

जापान योग निकेतन है मशाल वाहक-मोदी
पीएम मोदी ने जापान योग निकेतन की भी प्रशंसा की, जो जापान में योग का मशाल वाहक रहा है। स्कूल को योग तकनीकों के लिए जाना जाता है। समकालीन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य विज्ञान के साथ पारंपरिक वैदिक, तांत्रिक और योग संबंधी शिक्षाओं के आधार पर कई दृष्टिकोणों के संश्लेषण के माध्यम से विकसित किया गया है। बिहार स्कूल कई प्रतिष्ठित अस्पतालों, संगठनों और प्रतिष्ठानों के साथ योग परियोजनाओं और चिकित्सा अनुसंधान का मार्गदर्शन करता है।1980 में स्थापित, जापान योग निकेतन ने पूरे जापान में योग को लोकप्रिय बनाया है। यह कई योग प्रशिक्षण संस्थान और पाठ्यक्रम चलाता है। वे जापानी समाज के सभी वर्गों के लोगों को आकर्षित करने में सक्षम रहे हैं। उन्हें बधाई। !

आयुष मंत्रालय देगा पुरस्कार
उल्लेखनिय है कि आयुष मंत्रालय ने पुरस्कारों के लिए दिशानिर्देश जारी किया था। जिसमें पुरस्कार देने के लिए दो स्क्रीनिंग समितियों का गठन किया गया था, ताकि पुरस्कारों को अंतिम रूप देने में एक पारदर्शी प्रक्रिया का पालन किया जा सके। विभिन्न श्रेणियों के तहत प्राप्त 79 नामांकन पर विचार करने के बाद इनका चयन किया गया था। विजेताओं को ट्रॉफी, प्रमाण पत्र और प्रत्येक को 25 लाख रुपये नकद पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।