केरल में हार के बाद कांग्रेस में कलह शुरू

तिरुवनंतपुरम| केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूडीएफ को इस विधानसभा चुनाव में सबसे खराब हार का सामना करना पड़ा है। पांच साल पहले 2016 में हुए चुनावों में उसे 47 सीटें मिली थीं जो साल 2021 में घटकर 41 हो गई। इसके साथ ही पार्टी में कलह शुरू हो गई है। 2016 के विधानसभा चुनावों में सिर्फ कांग्रेस के पास 22 सीटें थीं, लेकिन रविवार को जो नतीजे सामने आए, उसमें इसकी संख्या 21 हो गई जिससे पार्टी की परेशानियां बढ़ गई हैं।

कांग्रेसियों को सबसे ज्यादा जो चोट लगी है, वो ये है कि उन सभी को उम्मीद थी कि इससे पहले कभी भी सत्ता में बैठी सरकार ने वापसी नहीं की है। इसलिए, यह स्वाभाविक होगा कि यूूडीएफ की वापसी होगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

इसलिए दो दिनों की चुप्पी के बाद, अनुभवी नेताओं के बीच विभिन्न नेताओं और संगठनों के साथ कलह शुरू हो गई है।

चॉपिंग ब्लॉक पर राज्य पार्टी के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन हैं। उनके बारे में कयास लगाया जा रहा था कि वो इस करारी हार के बाद इस्तीफा दे देंगे लेकिन सूत्रों के मुताबिक, उन्होंने पार्टी हाईकमान के पास फैसला छोड़ दिया।

एनार्कुलम के युवा कांग्रेस सांसद हिबी एडेन ने अपने फेसबुक में लिखा, हमें अभी भी लगातार सोते रहने वाले हाईकमान की आवश्यकता क्यों है?

कोट्टायम जिले के कांजीरापल्ली में हारने वाले उम्मीदवार जोसेफ वाजखान, पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने भी कहा कि समय की आवश्यकता एक बहुत मजबूत नेतृत्व है।

Fireworks begin in Congress in Kerala after defeat

वाझाकन ने कहा, पार्टी के पास एक कैडर संरचना है। अगर कोई पीछे देखता है, तो विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला बहुत सक्रिय थे और बहुत सारे मुद्दों को उठाते थे, लेकिन वह पार्टी से कोई समर्थन प्राप्त करने में विफल रहे ।

केरल में कांग्रेस पार्टी हमेशा से दो गुटों में बंटी रही है। इनमें से एक गुट के करुणाकरण का है जबकि दूसरा गुट ए.के. एंटनी का है। साल 2000 के बाद, करुणाकरण गुट का नेतृत्व चेन्निथला ने किया और एंटनी गुट का नेतृत्व दो बार पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने किया। ये गुटबंदी आज भी जारी है।

हालाँकि पिछले दो वर्षों में के.सी. के रूप में एक नया शक्ति केंद्र सामने आया। अब राजस्थान से राज्यसभा सांसद वेणुगोपाल को राहुल गांधी का पूरा आशीर्वाद है।

वेणुगोपाल का नाम लेते हुए, उनका नाम लिए बगैर, वाजखान ने कहा कि हर चीज के लिए दिल्ली जाने की प्रथा को बंद करना होगा। प्राधिकरण का प्रतिनिधिमंडल होना है।

संयोग से, कांग्रेस के नेतृत्व की घोषणा की गई उम्मीदवारों की सूची में बैंकिंग थी, जब उसने देखा कि कई नियमित रूप से छोड़ दिया जा रहा था और पार्टी ने जिन 91 सीटों पर चुनाव लड़ा था, उनमें से आधे से अधिक में नए चेहरे दिखाई दिए।

एक मीडिया समीक्षक ने कहा, नेतृत्व द्वारा अपनाई गई कोई भी सामान्य रणनीति जब उलट नहीं पड़ती है तो एक समिति की नियुक्ति और एक रिपोर्ट प्राप्त करने और फिर उसे कालीन के नीचे रखकर काम करेगी। यह केरल में भव्य पुरानी पार्टी को नहीं बचाएगा।

पुराने या नए चेहरों से इसका कोई लेना-देना नहीं है। अगर ऐसा है, तो लगभग 50 फीसदी नए चेहरे मैदान में हैं, ऐसा कुछ नहीं हुआ। जरा सोचिए, अगर नेतृत्व ने वही पुराने नाम रखे और हार गए, तो बड़ा खतरा होगा। समय की जरूरत है कि पार्टी को पार्टी के पदों पर इस नामांकन व्यवसाय को रोकना है और उन्हें सभी स्तरों पर सभी पदों पर सदस्यों का चयन करना चाहिए, जितनी जल्दी यह बेहतर होगा उतना अच्छा होगा। यदि नहीं, तो यह पार्टी गायब हो जाएगी।

कन्नूर लोकसभा सदस्य के सुधाकरन को नए अध्यक्ष के रूप में नियुक्त करने के लिए युवा कांग्रेस के एक वर्ग के साथ कॉल शुरू हो गए हैं।

एआईसीसी ने महासचिव तारिक अनवर से कहा है कि वे अपनी रिपोर्ट को पराजित करने के लिए तैयार करें और सभी की निगाहें पार्टी हाईकमान से आने वाली हैं।

इस बीच, शुक्रवार को पार्टी का शीर्ष नेतृत्व तमाम मुद्दों पर चर्चा करने के लिए बैठने वाला है। यह निश्चित है कि आतिशबाजी जारी रहेगी और इसके तेज होने की उम्मीद है।

–आईएएनएस

संबंधित पोस्ट

कांग्रेस को बड़ा झटका, असम, केरल, पुडुचेरी में मिल रही हार

केरल : चुनाव अधिकारी सोए रह गए, ड्यूटी पर देर से पहुंचे

केरल : भाजपा ने 112 उम्मीदवारों की घोषणा की, मेट्रोमैन पलक्कड से लड़ेंगे

केरल में 115 सीटों पर लड़ेगी भाजपा, चुनाव समिति ने तय किए प्रत्याशियों के नाम

कोरबा: नकली नोट गिरोह का सरगना केरल में पकड़ा गया

केरल निकाय चुनाव : शुरुआती रुझानों में वाम दल आगे

केरल के प्रख्यात कवि अक्खितम अच्युतन ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

केरल : 2 माकपा कार्यकर्ताओं की हत्या के आरोप में 4 कांग्रेसी गिरफ्तार

स्वर्ण तस्करीः संलिप्त हाई-प्रोफाइल आईटी कंसल्टैंट को ले केरल में राजनीतिक तूफान

प्रकाश जावड़ेकर ने केरल में हथिनी की मौत पर रिपोर्ट मांगी

केरल : कोरोना के 58 नए मामलों में एयर इंडिया के 7 और केबिन क्रू भी शामिल

LockDown Impact : केरल में 140 से अधिक सऊदी नागरिकों को बाहर ले जाएगा विशेष विमान