निर्वाचन आयोग की अपील “प्रचार में सिंगल यूज प्लास्टिक का न करें इस्तेमाल”

भारत निर्वाचन आयोग ने पर्यावरण अनुकूल सामग्री के प्रयोग की जारी की अपील

नई दिल्ली / रायपुर।  भारत निर्वाचन आयोग ने निर्वाचन प्रचार अभियान में पर्यावरण-अनुकूल सामग्री के प्रयोग की अपील की है। ज्ञात हो कि आयोग ने सभी मान्यता-प्राप्त राजनीतिक दलों से यह बात जोर देकर कही थी, कि वे निर्वाचनों में प्रचार सामग्री के रूप में ‘सिंगल यूज प्लास्टिक’ का उपयोग न करें। निर्वाचन प्रचार के दौरान पोस्टर, बैनर, कट-आउट, होर्डिंग, विज्ञापन, कटलरी, पानी पीने के पाउच, बोतल में सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग से संपूर्ण पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, जो विशेष रूप से मनुष्यों और पशुओं के स्वास्थ्य को दुष्प्रभावित करता है। यह स्थिति सभी के सक्रिय सहयोग से बदली जा सकती है।

मुख्य चुनाव आयुक्त

आजकल परंपरागत रीतियों के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के ऐसे पर्यावरण अनुकूल विकल्प मौजूद हैं, जिनका निर्वाचन प्रचार अभियान के लिए उपयोग किया जा सकता है। भारत निर्वाचन आयोग ने अपील में यह कहा है कि एक जिम्मेदार राजनीतिक दल होने के नाते, सभी से यह आशा की गयी है कि अब से निर्वाचनों के प्रयोजनार्थ किसी भी रूप में ‘सिंगल यूज प्लास्टिक’ का प्रयोग न किया जाए। तदनुसार, किसी भी रूप में ‘सिंगल यूज प्लास्टिक’ से अपने पर्यावरण को मुक्त रखने के लिए सामूहिक संकल्प लेना चाहिए। भारत निर्वाचन आयोग ने सभी राजनीतिक दलों, अभ्यर्थियों, निर्वाचन अधिकारियों और निर्वाचकों से पुनः अनुरोध किया है कि देश को प्लास्टिक प्रदूषण से मुक्त बनाने में अपना पूर्ण सहयोग दें।