Fani Video: फोनी के तांडव से 160 घायल, तीन मौते

मौसम विभाग ने अगले 6 घंटे तक खतरें की दी चेतावनी

भुवनेश्वर। चक्रवाती तूफान फोनी अब धीरे-धीरे कमजोर होने लगा है। 245 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ीसा में तांडव मचा चुका फोनी अब कमजोर होते हुए पश्चिम बंगाल पहुंच चुका है। फोनी के तांडव से जहां 160 लोगों के घायल होने की खबर है, वहीं तीन लोगों की मौत की पुष्टि भी उड़ीसा सरकार ने की है।

ओडिशा सरकार से मिली जानकारी के मुताबिक पानी के चलते जहां सैकड़ों पेड़ पौधे गिरकर सड़कों पर पड़े हैं। वही जगह जगह पर बिजली के खंभे टूटने की भी खबरें उन्हें मिली है। हालांकि गिरे पेड़ पौधों को और बिजली के खंभों को दुरुस्त करने का काम सरकार के साथ एनडीआरएफ और पुलिस बल की कई टुकड़ियां मिलकर कर रही है। मिली जानकारी के मुताबिक पानी चक्रवात से भुवनेश्वर एयरपोर्ट में भी जबरदस्त तबाही हुई चक्रवात की वजह से जहां रनवे में भी कुछ नुकसान हुए हैं। वहीं एरोड्रम की तरफ भी चक्रवात की वजह से क्षति पहुंचने की खबरें सामने आई हैं।

फोनी के तांडवछत्तीसगढ़ में भी हुआ असर
चक्रवात फोनी से जहां उड़ीसा जैसे सीमावर्ती राज्य में जबरदस्त तबाही हुई है, वही इसका असर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर समेत प्रदेश में भी देखा गया। प्रदेशभर में जहां शाम को तकरीबन 5:30 बजे से तेज हवाएं चलने लगी थी, वही इन हवाओं के साथ जबरदस्त बारिश भी हुई है। राजधानी रायपुर और बिलासपुर में जहां तेज हवाओं के साथ बारिश हुई है। वही बस्तर में भी सुबह से ही मौसम में ठंडक और तेज हवा चल रही थी। तकरीबन 4:00 बजे बस्तर में 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली, और तेज बारिश भी हुई है।

आधा दर्जन राज्यों में दिखा असर
चक्रवात फोनी से न सिर्फ उड़ीसा प्रभावित हुआ है बल्कि इसका असर पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तराखंड, झारखंड, सिक्किम, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ और पांडिचेरी में भी दिखाई दे रहा है। उड़ीसा से टकराने के बाद शनिवार तक चक्रवात फ़ोनी पश्चिम बंगाल पहुंच चूका है। जिसके लिए मौसम विभाग अपनी चेतावनी भी जारी कर दी है। मौसम विभाग की जानकारी के मुताबिक बिहार में 40 से 50 और उत्तराखंड झारखंड पश्चिम बंगाल सिक्किम तमिलनाडु और पुडुचेरी में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तूफान की चेतावनी दी है। इन राज्यों में आंधी और बिजली के साथ तेज बारिश की संभावनाएं भी मौसम विभाग ने जारी की है।