घायल पुलिसकर्मियों से मिलने पहुंचे गौतम गंभीर

सरकार बातचीत और हर संदेह को स्पष्ट करने के लिए तैयार-गंभीर

नई दिल्ली। पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर उत्तर पूर्वी दिल्ली में सोमवार को हुई हिंसा के दौरान गंभीर रूप से घायल डीसीपी शाहदरा अमित शर्मा, एसीपी अनुज जैन और हेड कांस्टेबल यशपाल से मिलने अस्पताल पहुंचे। उत्तर पूर्वी दिल्ली में सोमवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के समर्थक व विरोधियों के बीच हिंसा भड़क उठी थी। इस दौरान पुलिस के जवानों के साथ ही अन्य कई लोग घायल हो गए थे। हिंसा में दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल सहित सात लोगों की मौत हो चुकी है।

गंभीर ने हिंसक प्रदर्शनकारियों और भड़काऊ भाषण देने वालों की कड़ी निंदा की।

भाजपा सांसद ने कहा, “हिंसा के जरिए कुछ भी हल नहीं किया जा सकता है। किसी भी मुद्दे का समाधान केवल बातचीत के माध्यम से होता है। सरकार बातचीत और हर संदेह को स्पष्ट करने के लिए तैयार है। हिंसा में लिप्त लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। हिंसा दिल्ली की पहचान नहीं है। हम सभी हमेशा प्यार और शांति से रहते आए हैं।”

सीएए समर्थकों व विरोधियों के बीच पैदा हुए तनाव के बाद सोमवार को दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल की मौत हो गई थी। इसके बाद दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की।

हिंसा के दौरान हेड कांस्टेबल रतन लाल की जान चली गई, जबकि झड़पों में एक युवक घायल हो गया। अनियंत्रित प्रदर्शनकारियों द्वारा चलाई गई गोली से युवक घायल हो गया, जबकि आसपास के कई वाहनों और एक घर में आग लगा दी गई।

जाफराबाद, मौजपुर, और गोकुलपुरी सहित कई इलाके तनाव बना हुआ है। हिंसा को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस का इस्तेमाल भी किया है। (आईएएनएस)