भारत ने निगरानी उपग्रह रीसेट-2बीआर1 का प्रक्षेपण

नौ विदेशी उपग्रहों को सफलतापूर्वक किया गया प्रक्षेपित

श्रीहरिकोटा(आईएएनएस)। भारत ने बुधवार को अपने पीएसएलवी रॉकेट का उपयोग करते हुए नवीनतम रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह रीसेट-2बीआर1 और चार देशों के नौ विदेशी उपग्रहों को सफलतापूर्वक कक्षा में भेजा। नौ विदेशी उपग्रहों को कक्षा में भेजने के साथ ही भारत ने 1999 के बाद से कुल 319 विदेशी उपग्रहों को प्रक्षेपित करने का आंकड़ा छू लिया है। यह पीएसएलवी रॉकेट की 50वीं उड़ान और श्रीहरिकोटा रॉकेट पोर्ट के लिए 75वां रॉकेट मिशन था।
भारत के पीएसएलवी रॉकेट को पहले लॉन्च पैड से बुधवार दोपहर आरआईएसएटी-2बीआरआई को लेकर प्रक्षेपित हुआ। इसरो ने इस रडार इमेजिंग पृथ्वी निगरानी उपग्रह का वजन लगभग 628 किलोग्राम बताया है। भारतीय उपग्रह को 576 किलोमीटर की एक कक्षा में रखा जाएगा। इसकी उम्र पांच साल होगी।

भारतीय उपग्रह अपने साथ चार देशों के नौ विदेशी उपग्रहों -अमेरिका (मल्टी-मिशन लेमूर -4 सैटेलाइट्स, टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेशन टायवाक-0129, अर्थ इमेजिंग 1हॉपसैट), इजरायल (रिमोट सेंसिंग डुचिफैट -3), इटली (सर्च एंड रेस्क्यू टायवाक-0092) व जापान (क्यूपीएस-एसएआर-रडार इमेजिंग अर्थ ऑब्जरर्वेशन सैटेलाइट) को भी लेकर जाएगा। इन विदेशी उपग्रहों को न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) के साथ एक वाणिज्यिक व्यवस्था के तहत लॉन्च किया जा रहा है। अब तक, इसरो ने 310 विदेशी उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किए थे।

संबंधित पोस्ट

ISRO तकनीशियन समेत विभिन्न परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी

ISRO में 182 पदों पर आवेदन की कल अंतिम तारीख…जल्द करें आवेदन

ISRO ने बढाई यंग साइंटिस्ट प्रोग्राम (YUVIKA) में रजिस्ट्रेशन की तारीख़

ISRO : स्कूली बच्चों को युवा वैज्ञानिक बनने इसरो दे रहा मौका

इसरो सैटेलाइट जीसैट-30 की सफल लांचिंग

सीएम भूपेश ने दी इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई…

तमिलनाडु के तूतीकोरिन में बनेगा भारत का दूसरा स्पेसपोर्ट : इसरो

ISRO IPRC : ट्रेड अपरेंटिस के पदों पर सीधी भर्ती

Chandryaan 2 : टिल्टेड पोजीशन में चाँद के पास लैंडर विक्रम

Big News Chandrayaan 2 : जागी उम्मीदें चाँद की सतह पर नज़र आया लैंडर विक्रम

ISRO में नौकरी करने के लिए ये है सुनहरा अवसर

Chandrayaan-2 : 55 दिन के सफर के बाद चांद पर होगा चंद्रयान